मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। देश के इतिहास में कल का दिन यानि 26 जनवरी गणतंत्र दिवस का दिन बहुत ही निदंनीय रहा। क्योंकि गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रेक्टर रैली में ऐसा हिंसक उपद्रव हुआ। जिसने पूरे देश को शर्मसार करके रख दिया।

ffff

कृषि कानूनों के विरोध में 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा और तोडफ़ोड़ की घटनाओं पर अब तक 22 उपद्रवियों पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है। साथ ही पुलिस अब उपद्रवियों की पहचान के लिए सीसीटीव फुटेज की जांच कर रही है।

fff

बता दें कि नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने गणतंत्र दिवस के मौके पर देश की राजधानी दिल्ली में हिंसा, हंगामा और बवाल का जो नजारा पेश किया। जिससे पूरा देश आहत है। गौरतलब है कि उपद्रवी किसानों का एक बड़ा हुजूम लाल किले को कब्जे में ले लिया। इतना ही नहीं उपद्रवियों ने लाल किले की चोटी पर लहरा रहे तिरंगे के पास में ही अपना झंडा फहरा दिया। साथ ही इसी दौरान उपद्रवियों ने पुलिस कर्मियों पर हमला बोल दिया। जिसमें कई किसान और पुलिसकर्मी जख्मी हो गए।

सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार किसान रैली में हुई हिंसा में अब तक करीब 300 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। इसी बीच अब ऐसे हिसंक उपद्रव को देखते हुए राष्ट्रीय राजधानी के लाल किले में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। साथ ही कल हुए बवाल के बाद आज सिंघु बॉर्डर पर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात हैं। कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बॉर्डर पर किसान विरोध-प्रदर्शन जारी है। आज भी दिल्ली में कई रास्ते बंद हैं। साथ ही एनसीआर का इंटरनेट भी एहतियात के तौर पर बंद कर दिया गया।