राजस्थान में इस साल की सबसे बड़ी परीक्षा (REET) में महज दो दिन शेष हैं। इससे पहले परीक्षा में फर्जी अभ्यर्थियों को बैठाने वाले, पेपर उपलब्ध करवाने और नकल करने वाले रैकेट की धरपकड़ जारी है। इसी बीच, दौसा जिले में डमी अभ्यर्थी बिठाकर परीक्षा दिलवाने के एवज में 5.80 लाख रुपए वसूलने वाले गैंग के चार सदस्यों और सीकर जिले में परीक्षा से पहले पेपर उपलब्ध करवाने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से लग्जरी गाड़ियां भी जब्त की गई हैं। प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि ये सभी विभिन्न कोचिंग संस्थान और लाइब्रेरी से जुड़े हैं।

जयपुर रेंज आईजी हवासिंह घुमरिया ने बताया कि रमेश मीना (25) और दशरथ सिंह (30) निवासी पाटन थाना सिकन्दरा जिला दौसा, करण सिंह मीना (24) निवासी चैनपुरा थाना नादौती जिला करौली, सुमेर मीना (35) निवासी मुडियांखेडा थाना मानपुर जिला दौसा पकड़े गए हैं। दौसा में कोतवाली पुलिस ने इनको REET परीक्षा में सलेक्शन का झांसा देकर डमी अभ्यर्थी बैठाकर परीक्षा दिलवाने के मामले में गिरफ्तार किया है। यह गैंग रेलवे, NEET, JEE आदि में पास कराने की गारंटी लेता है। इसके बदले मोटी रकम वसूलते हैं। इन सभी से विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में वसूले गए करोड़ों रुपए के लेन-देन का हिसाब मिला है।