Jaipur: गहलोत मंत्रिमंडल में विस्तार के बाद अब संगठन में भी अपने समर्थकों को जगह दिलवाने के लिए सचिन पायलट ने पूरी तैयारी कर ली है। माना जा रहा है कि कांग्रेस संगठन की नियुक्तियों में भी पायलट कैंप के नेताओं को अच्छी खासी जगह मिल सकती है। संगठन में नियुक्तियों में भी शेयरिंग फॉर्मूला लागू होगा। इसको लेकर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और सचिन पायलट के बीच लंबी बैठक हुई। बताया जा रहा है कि कांग्रेस हाईकमान के स्तर पर सत्ता संगठन में पायलट समर्थकों को जगह देने पर पहले से ही मंजूरी मिल चुकी है। पायलट समर्थकों को संगठन में नियुक्तियां देने के फॉर्मूले पर चर्चा हुई है। इन्हें प्रदेश कार्यकारिणी से लेकर जिला और ब्लॉक स्तर तक पदाधिकारी बनाया जाएगा। बता दें कि कांग्रेस संगठन में पिछले साल जुलाई से भंग पड़े जिला और ब्लॉक में हजारों नेताओं को पद दिए जाने हैं। उन पदों पर पायलट समर्थकों को भी अच्छी संख्या में जगह मिलेगी। बता दें कि सचिन पायलट का कहना है कि राजस्थान में सत्ता और संगठन में सबकी राय लेकर काम किया जाएगा। हमारा लक्ष्य यही है कि 22 महीने बाद जब चुनाव होगें तो कांग्रेस प्रचंड बहुमत के साथ राजस्थान में फिर से सत्ता में आए। हम मिल बैठकर राजस्थान में संगठन, सरकार और क्षेत्र की बात करेंगे। बता दें कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद सचिन पायलट ने खुशी ज़ाहिर की थी और प्रदेश कांग्रेस में गुटबाज़ी की खबरों का खंडन किया था। लेकिन मुख्यमंत्री गहलोत के सलाहकार बने रामकेश मीणा ने पायलट पर आलाकमान को गुमराह करने के आरोप लगाए है जिससे राजनीतिक हल्कों में एक बार फिर चर्चाएं तेज हो गई है।