घड़साना क्षेत्र में आबकारी DEO व CI अवैध शराब (Illegal liquor) पर कार्रवाई करना चाहते हैं। लेकिन जिले में पूर्ण रूप से दुकाने नहीं लगने के कारण राजसव को लेकर काफी बीजी के चलते हुए नहीं कर पा रहे कार्रवाई। कई बार शिकायत करने के बाद भी स्थानीय आबकारी विभाग की आंखों पर शराब ठेकेदारों ने इस तरह का उल्टा चश्मा चढा दिया कि उनको हर बात सही लगने लगती है । जब शराब की दुकान (Wine Shop) ली जाती है कई नियम बताए जाते हैं। इससे पहले आबकारी विभाग के स्थानीय अधिकारी दुकान की लोकेशन तैयार कर उच्च अधिकारियो को भेजते है । लोकेशन के दौरान स्कूल, मस्जिद, अस्पताल, मंदिर या फिर अन्य कोई धार्मिक स्थल (Religious Place)जिसकी दूरी कम से कम 200 मीटर हो इसके अलावा कोई जनता का विरोध या आपत्ति नही हो पूरी जांच के बाद ही लोकेशन के आधार पर शराब का लाइसेंस दिया जाता है। मगर यहाँ तो आबकारी विभाग नही शराब माफिया लोकेशन तैयार करते है जहां चाहे शराब का शोरूम लगाकर बैठे हैं गांव हो या शहर हो हर गली में परचून की दुकान की तरह चलती है शराब। आबकारी विभाग (Excise Department) तो टारगेट में लगी रहती है शराब पीने वालों को पकड़कर शराबी पर ही केस बना रही है। सुबह 9:00 बजे से रात को 12:00 बजे तक शराब बिकती है। ऐसा ही मामला घड़साना में लगी अनेक स्थानों पर शराब की दुकानों (Wine Shop)का चल रहा है आये दिन किसी ना किसी शराब ठेके का विरोध हो रहा है आबकारी के साथ-साथ इन मामलों को लेकर पुलिस भी मौन है।
screenshot web.whatsapp.com 2021.04.08 13 40 24