Marudhar Desk: भारत में कोरोना संक्रमण तेज गति के साथ बढ़ रहा है और तीसरी लहर अब देश में दस्तक दे चुकी है। पिछले 24 घंटे में भारत में कोरोना के 90,928 केस सामने आए हैं। जिसके बाद चिंता बढ़ने लगी है। लेकिन सबसे ज्यादा चिंताजनका बात ये है कि इस महामारी में लोगों को बचाने वाले डॉक्टर ही अब खुद कोरोना से बचे हुए नही है। तीसरी लहर का कहर डॉक्टरों पर भी जमकर बरप रहा है। मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, पटना, चंडीगढ़, लखनऊ और पटियाला में बड़ी संख्या में डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ कोरोना पॉजिटिव मिला है। देश में अब तक 1000 से ज्यादा डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ संक्रमित हो चुका है। महाराष्ट्र रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन के प्रेसिडेंट गणेश सोलुंके ने जानकारी देते हुए कहा कि पिछले तीन दिनों में जेजे हॉस्पिटल समेत महाराष्ट्र में कुल 305 डॉक्टर कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। यहां गुरुवार को सियोन हॉस्पिटल में 30 रेजिडेंट डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। बता दें कि चंडीगढ़ के PGI में भी बड़ी संख्या में डॉक्टरों के संक्रमण के मामले सामने आए हैं। यहां अब तक 146 डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ संक्रमित मिला है। इसके अलावा कुछ और अस्पतालों में 50 डॉक्टर संक्रमित हुए हैं। ऐसे में यहां अब तक 196 डॉक्टर संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, दिल्ली में भी बड़ी संख्या में डॉक्टरों के कोरोना संक्रमित होने की खबर सामने आ रही है। दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में कम से कम 50 डॉक्टर संक्रमित हुए हैं। वहीं, सफदरगंज में भी 26 डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इतना ही नहीं दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में पिछले कुछ दिनों में 45 हेल्थ केयर वर्कर्स कोरोना की चपेट में आए हैं, इनमें 38 डॉक्टर शामिल हैं। वहीं, दिल्ली के हिंदू राव अस्पताल में करीब 20 डॉक्टर कोरोना की चपेट में आए हैं। वहीं, लोकनायक हॉस्पिटल में 7 डॉक्टर संक्रमित हुए हैं।