उदयपुर में कोरोना को दिया जा रहा है स्वयं बुलावा, ऐसे किया जा रहा है पॉजिटिव मरीजों का अंतिम संस्कार….

0
43
udaipur

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। जहां पूरी दुनिया कोरोना महामारी के कहर से जूझ रही वही कुछ लोग हैं जो इस महामारी की गंभीरता को समझ पाने में असमर्थ हैं। ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जहां लोग संक्रमण के खतरे को अनदेखा कर लगातार लापरवाही बरत रहे हैं। राजस्थान के उदयपुर जिले से भी लापरवाही का ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिससे कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा और भी अधिक बढ़ सकता है। उदयपुर जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार करते हुए सुरक्षा का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा जा रहा है। 
दरअसल उदयपुर के सवाल में मेघवाल कॉलोनी निवासी कोरोना संक्रमित फार्मासिस्ट की अंत्येष्टि के दौरान संक्रमण के प्रति सतर्कता का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा गया। फार्मासिस्ट की मृत्यु के बाद उनके परिजन पार्थिव शरीर को अशोक नगर शमशान घाट लाए। यहां अंत्येष्टि करने वाले निगम के कर्मियों और उनके परिवार वाले बिना पीपी कीट और ग्लव्स के दिखाई दिए। यहां तक की अंतिम क्रिया करने वालों ने मास्क पहनने की भी जरूरत नहीं समझी। कोरोना संक्रमित की डेड बॉडी से संक्रमण के फैलने का सबसे अधिक खतरा होता है। यह बात जानने के बाद भी इस तरह की लापरवाही सामने आना बेहद गंभीर बात है। 
बता दें कि डब्ल्यूएचओ आईसीएमआर केंद्र और राज्य सरकारों के द्वारा निर्देश जारी किए गए हैं कि कोरोना पीड़ित मरीज के शव का अंतिम संस्कार करते समय पीपीई किट, एन-95 मस्क और ग्लव्स पहनना अनिवार्य है। इस पूरे मामले पर वरिष्ठ अधिकारियों ने संज्ञान लेते हुए कहा है कि ऐसी लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी ऐसी गलती भविष्य में ना दोहराई जाए इसके लिए पुख्ता इंतजाम भी किए जाएंगे।