केन्द्र सरकार की अनुमति मिलने के बाद भगवान जगन्नाथ के रथों का निर्माण शुरू, लेकिन रखी ये शर्तें…

0
174
puri yatra

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। हर वर्ष की भांति इस साल 23 जून को भगवान जगन्नाथ की पुरी रथयात्रा निकलने की संभावना है। पुरी रथयात्रा को लेकर केन्द्र सरकार ने ​भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की अनुमति दे दी है। लेकिन अब इस पर अंतिम निर्णय ओडिशा सरकार को लेना है।

बहरहाल बता दें कि केन्द्र सरकार से हाल ही में अनुमति मिलने के बाद अब पुरी में भगवान जगन्नाथ के विशाल रथ का निर्माण शुरू हो गया है। आज सुबह कारीगरों ने विधि विधान के अनुसार रथ बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। केन्द्र सरकार द्वारा अनुमति मिलने के साथ ही अब थोड़ी बहुत राहत की खबर आई है। हालांकि केन्द्र सरकार ने इस रथ के निर्माण के लिए कुछ गाइडलाइन भी जारी की है। उसके मुताबिक सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाएगा। कारीगरों के चेहरे पर मास्क होना अनिवार्य है। साथ ही जिस जगह रथ का निर्माण होना वहां अधिक भीड़ ना हो आदि। बता दें कि रथयात्रा जगन्नाथ मंदिर का सबसे बड़ा उत्सव है। भगवान जगन्नाथ की इस रथयात्रा में देश और दुनिया के लाखों भक्त अपने प्रभु रथ को खींचने के लिए शामिल होते है।

बता दें कि प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर रथ यात्रा पर पिछले दिनों संशय के बादल छाए हुए थे। लेकिन अब यात्रा को लेकर केन्द्र सरकार ने स्थिति को साफ कर दिया है। ओडिशा सरकार ने पिछले दिनों केंद्र सरकार से यात्रा को लेकर स्पष्टीकरण मांगा था। लेकिन अब केंद्र सरकार ने रथ यात्रा के लिए रथ बनाने की इजाजत दे दी है। इसके अलावा केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने कहा ​है कि ओडिशा सरकार मौजूदा हालात को देखकर रथ यात्रा के बारे में फैसला लेगी। बता दें कि इस समय देश में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन लागू है। इस समय लॉकडाउन की तीसरा चरण चल रहा है, जिसकी अवधि 17 मई तक के लिए है।