Jaipur: राजस्थान में 12 दिसंबर को कांग्रेस की देश में बढ़ती मंहगाई के खिलाफ राष्ट्रीय रैली होने जा रही है। इस रैली में कांग्रेस के बड़े नेता और कार्यकर्ता जयपुर के विद्याधर नगर स्टेडियम में केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे। रैली के लिए ज्यादा से ज्यादा भीड़ इकठ्ठी करने की जिम्मेदारी दी गई है। इसके साथ ही दावा ये भी किया जा रहा है कि कांग्रेस की इस रैली में एक लाख से ज्यादा लोग शामिल होंगे। हालांकि, राजस्थान में जिस तरह से कोविड के मामलों में इजाफा हो रहा है उसे देखते हुए इस रैली पर कई सवाल भी खड़े हुए है। हालांकि, राजस्थान हाईकोर्ट की मंजूरी के बाद तैयारियां जोरोशोरों से चल रही है। लेकिन इस रैली पर सवाल तब खड़े होने लगे जब कांग्रेस नेता ज्योति खंडेलवाल ने कोरोना के खतरे का हवाला देकर महंगाई के खिलाफ जयपुर में प्रस्तावित रैली टालने के लिए सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी। इस पर कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं ने नाराजगी भी जाहिर की। हालांकि अब ज्योति खंडेलवाल अपने इस मूव से यू टर्न ले लिया है और इस बार उन्होनें वीडियो जारी करते हुए लोगों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में रैली में आने की अपील की है। दरअसल, ​रैली टालने की बात सार्वजनिक करने पर प्रदेश प्रभारी अजय माकन और प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने ज्योति खंडेलवाल से नाराजगी जताते हुए डेमेज कंट्रोल करने को कहा। इसके बाद ज्योति खंडेलवाल ने वीडियो जारी कर ज्यादा से ज्यादा लोगों से रैली में आने की अपील की। प्रदेश मुख्यालय में हुई बैठक के बाद ज्योति खंडेलवाल ने यह वीडियो जारी किया है। इस वीडियो में ज्योति खंडेलवाल के सुर बिल्कुल बदले नजर आए। उन्होनें कहा कि कांग्रेस की रैली में ज्यादा से ज्यादा संख्या में आकर केंद्र की मोदी सरकार को चेताने का प्रयास करें। महंगाई से आज जनता त्रस्त है खासतौर पर महिलाएं सबसे ज्यादा परेशान हैं, इसलिए 12 दिसंबर की रैली में महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा संख्या में आना चाहिए। बता दें कि इस वीडियो के सामने आने के बाद सियासी हलको में चर्चा है कि भले ही पूर्व मेयर ज्योति खंडेलवाल ने वीडियो जारी कर डेमेज कंट्रोल की कोशिश की है लेकिन, रैली रद्द करने के लिए सोनिया गांधी को चिट्‌ठी लिखने को विरोधी धड़ा आगे भी मुद्दा बनाएगा।