केन्द्रीय कर्मचारियों पर पड़ी अब कोरोना की मार, नहीं मिलेगा डेढ़ साल तक डीए!

0
145

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। इस समय कोरोना के चलते पूरे देश में लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन में किसी भी आमजन, गरीब वर्ग को कोई परेशानी ना हो इसलिए सरकार उनके लिए आर्थिक मदद के साथ भोजन, रहने आदि की व्यवस्था करती नजर आ रही है तथा इस संकट के समय देश की कई हस्तियों सहित कई कार्यालयों के कर्मचारी आम जनता भी इनका पूरा खर्चा उठा रही है। इसी बीच इस संकट की स्थिति में केंद्रीय कर्मचारियों के लिए आज बुरी खबर आ रही है।

जानकारी के अनुसार केन्द्र सरकार ने देश के करोड़ों सरकारी कर्मचारियों को झटका दे दिया है। केंद्र सरकार ने सरकारी कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता बढ़ाने पर रोक लगा दी है। जिसके लिए वित्त मंत्रालय ने गुरुवार को इसके आदेश जारी कर दिए। केंद्र सरकार के इस फैसले से 1.13 करोड़ कर्मचारी और पेंशनर प्रभावित होंगे। इसमें करीब 48 लाख कर्मचारी और 65 लाख पेंशनर शामिल हैं। इस महंगाई भत्ते को रोकने केंद्र सरकार को वित्त वर्ष 2020-21 और 2021-22 में करीब 37,530 करोड़ रुपए की बचत होगी। इसी के साथ महंगाई भत्ते की बढ़ोतरी पर लगी ये रोक एक जुलाई 2021 तक जारी रहेगी। इससे सरकार 14000 करोड़ रुपए बचेंगे। हालांकि, वित्त मंत्रालय ने साफ किया है कि मौजूदा दर पर महंगाई भत्ते का भुगतान होता रहेगा।

गौरतलब है कि बीते मार्च महीने में केन्द्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारी और पेंशनभोगी के लिए महंगाई भत्ते में चार फीसदी बढ़ाने की घोषणा की थी। लेकिन अब कोरोना की इस संकट की स्थिति को देखते हुए इस पर रोक लगा दी गई है। कोरोना वायरस की वजह से उत्पन्न हुए आर्थिक संकट के कारण से यह निर्णय लिया गया है। ताकि सरकारी खजाने को राहत मिल सके।