सुजानगढ़ बगडिया हास्पिटल जो चुरू जिले का दुसरा बड़ा अस्पताल है कोरोना की दूसरी लहर का पीक चला गया है। मई के पहले हफ्ते की तुलना में अब नाममात्र के कोविड पॉजिटिव लोग अस्पतालों में है। मौतें भी लगभग थम गई है। सुजानगढ के बगड़िया अस्पताल का कोविड वार्ड अब खाली पड़ा है। पीएमओ डॉ. सुरेश चन्द कालानी ने बताया कि एक महीने पहले जहाँ बेड के लिए मारामारी थी। ऑक्सीजन की कमी हो रही थी। वहीं अब कोविड के सिर्फ 6 मरीज हैं जिनमें 2 ऑक्सीजन पर है।

IMG 20210603 155610

पीएमओ कालानी ने कहा कि लॉकडाउन, वैक्सीनेशन और गाइडलाईन की पालना से यह राहत मिली है। उन्होंने कहा कि अस्पताल के डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, सहयोगी कर्मचारी व सफाई कर्मचारियों की बदौलत यह सम्भव हुआ है। अस्पताल के स्टाफ ने ऐसे लोगों का भी ईलाज और सेवा की जिनके रिश्तेदार भी पास नहीं आना चाहते थे।

IMG 20210603 155601


पीएमओ ने विधायक और भामाशाहों का धन्यवाद देते हुए कहा कि कोरोना काल मे उनकी भूमिका सराहनीय रही। उन्होंने कहा विधायक मनोज मेघवाल ने सरकार, प्रशासन और भामाशाहों को प्रेरित कर अस्पताल में ऑक्सीजन, उपकरणों और सभी प्रकार की सुविधाओं का ध्यान रखा। वे लगातार मुख्यमंत्री, चिकित्सा मन्त्री व जिला प्रशासन के संपर्क में रहे और हमें अपडेट देते हुए हमारा हौंसला बढ़ाते रहे। अस्पताल में कोई कमी नहीं दी। विधायक ने 30 ऑक्सीजन कन्सन्ट्रेटर राज्य सरकार से और 14 भामाशाहों से भी दिलवाए। साथ ही दूसरे जरूरी उपकरण भी उपलब्ध करवाए। पीएमओ ने प्रशासन को भी धन्यवाद देते हुए कहा कि अधिकारियों ने गाइडलाईन की पालना के लिए बहुत मेहनत की। इसी का नतीजा है कि पीक के समय जहाँ जाँच में 60 से 100 लोग रोजाना पॉजिटिव आ रहे थे वह संख्या अब इकाई में आ गई है। उन्होंने कहा संभावित तीसरी लहर को देखते हुए अस्पताल प्रशासन मुश्तैद है। जल्दी ही ऑक्सीजन प्लान्ट भी तैयार हो जाएगा। कोविड की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा रोगियों का ईलाज करने वाले डॉ. दिलीप सोनी ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर 15 अप्रैल के करीब शुरू हो गई थी जो 20 मई आते-आते पीक पर आ गई थी। इस दौरान मरीजों का ईलाज करने में बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। उन्होंने बताया कि अब कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है लेकिन फैलाव कम हो गया है और रोग की गंभीरता पहले जैसी नहीं रही। इसी कारण कई लोग घर पर भी ईलाज ले रहे हैं। डॉ. सोनी ने चेताया कि वायरल संक्रमण में तीसरी लहर के आने की संभावना भी रहती है। इसलिए हमें कोरोना व्यवहार जारी रखना होगा ताकि हम खुद को और समाज को इस महामारी से बचा सकें।

IMG 20210603 155555
IMG 20210603 155908