जयपुर: कांग्रेस विधायक पं. भंवरलाल शर्मा ने मंगलवार को प्रेस वार्ता का आयोजन कर प्रदेश में चल रही राजनीतिक सरगर्मियों के बारे में मीडिया के सवालों का जवाब दिया. उन्होंने कहा कि मैं किसी गुट से बंधा हुआ नहीं हूं. आज कोविड के हालात है ऐसे में सत्ता संघर्ष नहीं करना चाहिए. इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री की तारीफ करते हुए कहा कि सीएम गहलोत ने कोविड काल में अच्छा काम किया है. ऐसे में मेरी कांग्रेस विधायकों से अपील है कि बिना मतलब की बात नहीं करें. हालांकि इस दौरान उन्होंने कहा कि जांच कमेटी का अर्थ मामले को ठंडे में डालना है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गहलोत मेरे नेता हैं. सियासत की दूसरी लहर जल्द ही ठंडी पड़ जाएगी:वहीं मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए भंवरलाल शर्मा ने कहा कि सियासत की दूसरी लहर जल्द ही ठंडी पड़ जाएगी. जब किसी मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है तो अपने आप न्याय हो जाता है. गहलोत और पायलट को कमेटी के साथ बैठकर मुद्दे सुलझा लेने चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं पायलट साहब का भी सम्मान करता हूं. वो साथ वालों की पैरवी करते हैं. इसके साथ ही पार्टी के कुछ नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ छोटे लोग बड़े पदों पर आ गए हैं. वहीं विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी खुद डूब रही है. वसुंधरा राजे को साइड लाइन करके बीजेपी कभी सत्ता में नहीं आ सकती है. वहीं विधायक वेद प्रकाश सोलंकी के बयान पर बोलते हुए कहा कि उनको बताना चाहिए कि किन-किन के फोन टेप हो रहे हैं? सीएम ने मेरे साथ जो वादे किए वो पूरे हो गए:इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति सीनियर मोस्ट है उनका सम्मान होना चाहिए. राजेंद्र सिंह गुढ़ा आज राजा नहीं, लेकिन जनतंत्र के राजा है. राजा और पंडित को सोच समझकर निर्णय करना चाहिए. मैं सात बार सोच कर निर्णय करता हूं. भंवरलाल शर्मा ने कहा कि सीएम ने मेरे साथ जो वादे किए वो पूरे हो गए हैं. मैं पिछले साल मेरे काम नहीं हो रहे थे इसलिए मानेसर गया था. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं गहलोत और पायलट को नेता मानता हूं. अशोक गहलोत उनमें सुपर नेता हैं. इसके साथ ही उन्होंने राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की बात पर भी जोर दिया.