मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। अखिल राजस्थान महिला एवं बाल विकास संयुक्त कर्मचारी संघ के बैनर तले सोमवार को आंगनबाड़ी कार्मिको को नियमित कर राज्य कर्मचारी का दर्जा देने की मांग को लेकर सोमवार को जिला कलेक्ट्री पर एक दिवसीय धरना दिया तथा प्रदेश अध्यक्ष पूजा राठौड़ व जिला अध्यक्ष भारती चौधरी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम जिला कलेक्टर उज्ज्वल राठौड़ व यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल के नाम समाज सेविका एकता धारीवाल को ज्ञापन सौपा। संगठन के सम्भागीय संगठन प्रभारी भगवती जोशी ने बताया कि इस महिला बाल विकास में गरीब परिवार की महिलाएं काफी समय से अल्प मानदेय में कार्य कर रही है। जो इस महंगाई में ऊंट के मुँह में जीरा समान है।

IMG 20210222 WA0020

जबकि आंगनबाडी कार्यकर्ता बच्चों को शाला पूर्व शिक्षा देने का कार्य करती है। आशा सहयोगिनी गांव के प्रत्येक घर का सर्वे करती है। सहायिका बच्चों को लाने ले जाने की जोखिम उठाती है तो ग्राम साथिन पँचायत के आधीन गांवो में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की अलख जगाती है। इस कार्मिकों को कम वेतन में अधिक कार्य करना पड़ता है। इन कार्मिको की मेहनत देखते हुए इन्हें नियमित कर राज्य कर्मचारी का दर्जा देना चाहिए। जिससे इनका मनोबल बढ़ सके। वही धरने को महासंघ के जिला अध्यक्ष रामेश्वर सामरिया व बद्री लाल मीणा ने भी सम्बोधित किया। जिसमें समय पर मानदेय दिलवाने की गुहार की इस दौरान सम्भागीय अध्यक्ष मंजू कारपेंटर, जिला मंत्री सावित्री नामदेव, जिला अध्यक्ष भारती चौधरी, जिला मंत्री चन्दर कुमारी चारण, साथिन प्रकोष्ठ की जिला अध्यक्ष मधु गोयल, इटावा तहसील अध्यक्ष रिंकू हाड़ा, लाडपुरा तहसील अध्यक्ष पिंटू केवट, रामगजमंडी से रेखा पंचोली, निर्मला मोदी, शलिनी, सीमा मीणा, विद्या देवी बडौद समेत सम्भाग की आंगनबाडी कार्मिक व ग्राम साथिन मौजूद रही।