अलवर जिला प्रशासन ने जिले में स्थित एक ऑयल मिल द्वारा मिलावटी सरसों का तेल निकाल कर और उसकी बड़ी मात्रा में आपूर्ति करने की सूचना पर प्रशासन ने देर रात कार्रवाई करते हुए मिल पर छापा मारा जहां बड़ी मात्रा में बाबा रामदेव के पतंजलि ब्रांड के बड़ी संख्या में रेफर और खाली बोतलें मिली इस पर प्रशासन ने मिल को सीज कर दिया है और बाकी की जांच पड़ताल आज की जाएगी । मील में बड़ी मात्रा में पतंजलि ब्रांड के रेप पर और खाली बोतलें मिलने से आशंका जताई जा रही है कि सरसों का मिलावटी तेल निकालकर पतंजलि को आपूर्ति की जा रही थी या फिर पतंजलि ब्रांड से बाजार में बेचा जा रहा था ।अलवर जिला कलेक्टर नन्नू मल पहाड़िया को एक सूचना मिली थी कि जिले के खैरथल स्थित एक ऑयल मिल में सरसों का मिलावटी तेल निकालकर आपूर्ति की जा रही है।इस पर कलेक्टर पहाड़िया ने गंभीरता से लेते हुए बुधवार रात को प्रशासन ने पुलिस की टीम बनाकर खैरथल में इस्माइलपुर रोड पर औधोगिक क्षेत्र में स्थित सिंघानिया ऑयल मिल पर छापा माराखैरथल के एक जागरूक नागरिक ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और अलवर जिला कलक्टर ननूमल पहाडिया को शिकायत की थी की खैरथल से भारी मात्रा में सरसों का तेल बाबा रामदेव की कम्पनी पतंजलि को जाता है ।

पतंजलि इस तेल पर अपना ठप्पा लगाकर बाजार में बेचती है । इस शिकायत के आधार पर जिला कलेक्टर नन्नू मल पहाड़िया ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अलवर के उप खण्ड अधिकारी योगेश डागुर के नेतृत्व में तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया ।जिला कलेक्टर पहाडिया को सूचना ने उप खण्ड अधिकारी डागुर ने किशनगढ़ बांस के एसडीओ मुकुट चौधरी को अवगत कराया । चौधरी के नेतृत्व में रात को पुलिस जाब्ते के साथ सिंघानिया आयल मिल पर छापा मारा गया ।मिल के अंदर मशीन में लिपटे हुए पतंजलि के पैकिंग रैपर, बोतल तथा अन्य कई प्रकार की सामग्री बरामद हुई । एसडीओ चौधरी के निर्देश पर मिल को सील कर दिया है तथा पुलिस का पहरा लगा दिया गया है । विस्तृत पड़ताल बाद में होगी । इस घटना के बाद आयल मिल वालो में हड़कंप मच गया है ।