कानपुर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस पर हुआ हमला, 8 पुलिसकर्मियों की मौत…

0
39
kanpur police attack

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले से दिल दहला देने वाली घटना सामने आ रही है। जहां हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई पुलिस पर बदमाशों ने जानलेवा हमला कर दिया। इस हमले में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों समेत आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। गुरुवार रात को पुलिस हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को उसके गांव बिकरू में पकड़ने गई थी। जहां आधी रात को बदमाशों ने पुलिस पर जानलेवा हमला बोल दिया। बदमाशों ने घरों की छत से गोलियां बरसानी शुरू कर दी दोनों तरफ से चल रही गोलीबारी में आठ पुलिसकर्मियों शहीद हो गए। जबकि 7 के करीब पुलिसवाले घायल है।  इस एनकाउंटर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के 3 साथी भी मारे गए हैं। 

डीजीपी एचएससी अवस्थी ने बताया कि कानपुर के राहुल तिवारी ने हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के खिलाफ 307 के तहत हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज करवाया था। इसके बाद पुलिस विकास दुबे को पकड़ने उसके गांव बीकरू गई थी। लेकिन उन्होंने वहां जेसीबी लगा दी थी जिससे वाहन बाधित हो गए। जब फोर्स नीचे उतरी तो अपराधियों ने गोलियां चलाई,जवाबी फायरिंग हुई। लेकिन अपराधी ऊंचाई पर थे,इसलिए 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। वहीं, करीब 7 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं।ऑपरेशन अभी भी जारी है क्योंकि अपराधी अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल रहे। IG, ADG, ADG (लॉ एंड ऑर्डर) को ऑपरेशन की निगरानी के लिए वहां भेजा गया है। कानपुर से फॉरेंसिक टीम मौके पर है और लखनऊ से एक विशेषज्ञ टीम भी भेजी जा रही है।

इस एनकाउंटर में सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा, एसओ महेश यादव, चौकी इंचार्ज अनूप कुमार, सब-इंस्पेक्टर नेबुलाल, कांस्टेबल सुल्तान सिंह, राहुल, जितेंद्र और बबलू शहीद हो गए हैं। इसके अलावा बिठूर थाना प्रभारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह समेत 7 पुलिसकर्मियों को गोली लगी है। इनका इलाज रीजेंसी हॉस्पिटल में चल रहा है। इस पूरे मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसटीएफ की टीम को कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए हैं।