जयपुर में कोरोना की दूसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों और युवाओं के लिए घातक साबित हो रही है। अप्रैल-मई में अब तक जयपुर में जितने भी केस आए हैं, उसमें से 59 फीसदी से ज्यादा 40 साल तक की उम्र के हैं। जबकि इससे पहले नवंबर-दिसंबर में आई पहली लहर में इस एज ग्रुप के लोगों की संख्या 46 फीसदी से भी कम थी। डराने वाली बात ये है कि इस बार 20 साल से कम आयु वाले भी संक्रमण की चपेट में ज्यादा आए हैं। CMHO जयपुर से मिली रिपोर्ट के मुताबिक जयपुर में मई के शुरुआती 24 दिन में 7258 और पूरे अप्रैल में 6317 बच्चे कोरोना से संक्रमित हुए हैं। क्योंकि इस समय तक 18 साल तक की उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू नहीं हुआ है और आने वाले 3-4 माह में इसके शुरू होने के कोई आसार भी नजर नहीं आ रहे हैं।