स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल के आवास पर लगा नगर निगम में टिकट पाने वालों का जमावड़ा

0
10

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कोटा नगर निगम चुनाव में कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों का जमावड़ा अब जयपुर में उनके आवास के बाहर लगना शुरू हो गया है। जैसे ही चुनाव की तारीखों की घोषणा हुई टिकट चाहने वाले अभ्यार्थी अब सीधा जयपुर का रूख कर रहे हैं। पिछले दो दिनों में दर्जनों लोगों ने स्वायत्त शासन मंत्री शांति कुमार धारीवाल से जयपुर में मुलाकात कर उन्हें अपने आवेदन दिए और टिकट देने की मांग की। सबसे ज्यादा अभ्यार्थी कोटा उत्तर नगर निगम क्षेत्र के देखने को मिले इसके अलावा कोटा दक्षिण नगर निगम क्षेत्र के भी कई कार्यकर्ता टिकट की भाग दौड़ में जयपुर में नजर आए। वैसे कोरोना के चलते मंत्री शांति कुमार धारीवाल आम लोगों से मिलने में परहेज कर रहे हैं। फिर भी धारीवाल अपने क्षेत्र से आए लोगों से वह अच्छे से मिल रहे हैं और लोगों को आश्वस्त कर रहे हैं की जिस क्षेत्र में जिसकी अच्छी पकड़ होगी और पार्टी के सभी कार्यकर्ता उसके लिए कहेंगे तो वह जरूर जीतने वाले उम्मीदवार को टिकट देंगे।

मंत्री शांति कुमार धारीवाल चाहते हैं कि कोटा उत्तर और कोटा दक्षिण में कांग्रेस का बोर्ड बने और दोनों जगह कांग्रेस के मेयर पदभार ग्रहण करें। ताकि जो विकास चल रहा है उसकी गति में और इजाफा हो। यही नहीं मंत्री शांति कुमार धारीवाल अपने प्रमुख कार्यकर्ताओं से लगातार संपर्क में है। वह कांग्रेस शहर अध्यक्ष रविंद्र त्यागी हाडोती विकास मोर्चा के संभागीय अध्यक्ष राजेंद्र सांखला कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश सचिव डॉ. जफर मोहम्मद व शिवकांत नंदवाना संगठन महामंत्री रामेश्वर सुवालका सहित प्रमुख प्रमुख कार्यकर्ताओं से समय-समय पर संवाद कायम रख रहे हैं। यही नहीं राजेंद्र सांखला व डॉक्टर जफर मोहम्मद को जयपुर बुला कर पूरा फीडबैक ले रहे हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस बार साफ छवि वह जितने वाले उम्मीदवारों को ही टिकट दिए जाएंगे। उन्होंने जयपुर में कहा कि अपराधी छवि वाले लोगों को इस बार पार्टी टिकट नहीं देगी। टिकट मांगने वाले लोगों से उन्होंने कहा कि अपने मोहल्ले वह वार्ड के लोगों से संवाद कायम रखें और मिलते जुलते रहे टिकट का इंतजार ना करें। टिकट 1 वार्ड में एक ही कार्यकर्ताओं को मिलेगा और पार्टी जिस कार्यकर्ता को टिकट दे सभी कार्यकर्ताओं को उसे जिताने में मदद करनी है।आ