संविधान की रक्षा में न्यायपालिका की काफी बड़ी भूमिका : पीएम मोदी

0
153

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरूवार को यानि आज गुजरात के केवडिया में 80वें अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित किया।

पीएम मोदी ने इस दौरान अपने संबोधन में मुंबई हमले में शहीद हुए लोगों को श्रद्धांजलि दी और कहा कि हम वो जख्म कभी नहीं भूल सकते हैं। साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि आज का भारत नई नीति-रीति के साथ आतंकवाद का सामना कर रहा है। इसके अलावा उन्होंने आतंक को मुंहतोड़ जवाब देने वाले हमारे सुरक्षाबलों का भी मैं वंदन करता हूं।

साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि संविधान की रक्षा में न्यायपालिका की काफी बड़ी भूमिका है। पीएम बोले कि 70 के दशक में इसे भंग करने की कोशिश की गई, लेकिन संविधान ने ही इसका जवाब दिया। इमरजेंसी के दौर के बाद सिस्टम मजबूत भी होता गया, उससे हमें काफी कुछ सीखने को मिला है।

साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि आज देश संविधान दिवस मना रहा है और लोकतंत्र के पर्व के जश्न में डूबा है। पीएम मोदी ने कहा कि हर किसी को राष्ट्रहित को ध्यान रखते हुए काम करना चाहिए। पीठासीन अधिकारी होने के नाते आपका अहम रोल हो जाता है। आप एक अहम कड़ी हैं। आप विधायिका, न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बड़ी भूमिका अदा कर सकते हैं। संविधान के तीनों अंगों की भूमिका से लेकर मर्यादा तक संविधान में अंकित है। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से इस सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित किया।

.