बूंदी – राजस्थान विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायक संघ के प्रतिनिधि मंडल ने पंचायत सहायक धर्मराज मीणा को मृत्यु पश्चात आर्थिक सहायता दिलाने बाबत ज्ञापन सौंपा | संघ के जिला उपाध्यक्ष मनोज खटीक ने बताया कि ग्राम पंचायत लेसरदा पंचायत समिति केशोरायपाटन के पंचायत सहायक धर्मराज मीणा जिसकी कोविड 19 में ड्यूटी करते हुए दिनांक 8 मई 2021 को मृत्यु हो गई थी । पदेन पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी लेसरदा द्वारा व्हाट्सएप पर कोविड-19 वैक्सीनेशन में ड्यूटी लगाई गई थी जिसमे कार्य करते हुए पंचायत सहायक कोरोना पॉजिटिव हो गया । जिसका इलाज कॉलेज कोटा में चल रहा था दिनांक 8 मई को इलाज के दौरान मृत्यु हो गई । जिला अध्यक्ष दिनेश शर्मा का कहना है मृतक पंचायत सहायक अल्प मानदेय भोगी था जिसको ₹6000 मासिक मानदेय मिलता था इसके परिवार में छोटे-छोटे बच्चे व बुजुर्ग माता-पिता की एवं पूरे परिवार की समस्त जिम्मेदारियां थी अगर मृतक के परिवार को उचित मुआवजा नहीं मिलता है नियुक्त अधिकारी को पार्टी बनाकर माननीय न्यायालय की शरण ली जाएगी । इन विपरीत परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए संगठन के माध्यम से जिला कलेक्टर महोदय से निवेदन किया गया है कि मृतक धर्मराज मीणा के परिवार को राज्य सरकार के आदेश अनुसार 50 लाख की सहायता राशि दिलवाई जाए । साथ ही जिले में कार्यरत सभी पंचायत सहायकों को वर्तमान में कंट्रोल रूम कोरोना सर्वे आदि संबंधित कार्य जिला और उपखंड प्रशासन के आदेश अनुसार संपादित कर रहे हैं जिनको किसी प्रकार के बचाव उपकरण बिना प्रशिक्षण के महामारी में झोंक दिया गया है ‘ संगठन ने मांग की है की समस्त पंचायत सहायकों को सुरक्षा किट उपलब्ध कराए जाएं साथ ही केशोरायपाटन एवं हिंडोली के पंचायत सहायकों के टीके लगवाए जाएं । जिससे पंचायत सहायकों का इस महामारी से बचाव हो सके ।ज्ञापन देने वालों में महासचिव वरुण शर्मा प्रद्युम्न बागड़ी नंदकिशोर शर्मा आदि पंचायत सहायक उपस्थित रहे ।