जयपुर|Deepika Jangir: गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह (Mundra Port) पर भारतीय अधिकारियों ने शंघाई जाने वाले मालवाहक जहाज से कंटेनर को जब्त कर लिए थे. इनमें खतरनाक पदार्थ होने की आशंका जताई जा रही थी. इसे लेकर अब पाकिस्तान की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने दावा किया है कि जब्त किए गए कंटेनर खाली थे.

लेकिन पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने ये माना है कि इनका उपयोग पहले चीन से कराची में K-2 और K-3 परमाणु ऊर्जा संयंत्रों के लिए ईंधन के परिवहन के लिए किया जाता था. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि कराची के परमाणु ऊर्जा संयंत्र के परमाणु ऊर्जा संयंत्र के अधिकारियों ने सूचित किया है कि ये खाली कंटेनर चीन को लौटाए जा रहे थे जिनका उपयोग पहले के -2 और के -3 परमाणु ऊर्जा संयंत्रों के लिए चीन से कराची में ईंधन के परिवहन के लिए किया जाता था.

साथ ही उन्होंने कहा कि ये कंटेनर खाली थे और शिपिंग दस्तावेजों में कार्गो को गैर-खतरनाक घोषित किया गया था. इसके अलावा पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने ये भी कहा कि कराची में K-2 और K-3 परमाणु ऊर्जा प्लांट और इन प्लांट्स में इस्तेमाल होने वाला ईंधन दोनों अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के सुरक्षा उपायों के तहत हैं. बयान में कहा गया है कि ‘संभावित रेडियोएक्टिव सामग्री की जब्ती’ के बारे में रिपोर्ट तथ्यात्मक रूप से गलत है.