बिहार पंचायत चुनाव 2021 में रोहतास में सातवें चरण के पंचायत चुनाव (Panchayat Election) के मतगणना से गायब रहना अधिकारियों एवं कर्मियों पर भारी पड़ा है। अब जिला प्रशासन द्वारा इनपर एफआईआर करने का निर्देश दिया गया है। सातवें चरण में जिले के चेनारी एवं शिवसागर प्रखण्ड में मतदान हुआ था। जिसकी मगतणना 17 नवंबर को हुई थी। मतगणना में ड्यूटी लगने के बावजूद बड़ी संख्या में अधिकारी गायब थे, जिससे मतगणना में अधिक समय लगा।

30 कर्मियों पर FIR
इसे गंभीरता से लेते हुए चेनारी एवं शिवसागर के बीडीओ को पंचायती चुनाव के धाराओं के अंतर्गत एफआईआर कराने निर्देश कार्मिक विभाग द्वारा दिया गया है। इनमें करीब दर्जन भर बैंक मैनेजर, कर्मी , एलआईसी कर्मी एवं अन्य विभागों के अधिकारी कर्मचारी शामिल हैं। शिवसागर प्रखण्ड के मतगणना से गायब रहने वाले काउंटिंग माइक्रो ऑब्जर्बर, राजीव रंजन, मोहसिन खान, जय प्रकाश नारायण सिंह, अजय कांत अवरूथी, संजीव कुमार सिंहा, सतिश कुमार, अरूण कुमार पंडित, काउटिंग सुपरवाइजर रंधीर सिंह गौतम, ओम प्रकाश कुमार, कृष्णा सिंह, रंजन कुमार, अंशुमान कुमार पर एफआईआर होगी। जबकि काउंटिंग सहायक में तरूण कुमार गुप्ता, मनोज कुमार सिंह, उमेश कुमार सिंह, विकास कुमार सिंह, साजिद परवेज, नंद किशोर ज्योति, सनोज कुमार, सूरज दीप सिंह, एवं विकास कुमार सिंह पर भी प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।

अनुपस्थित रहने वालों पर प्राथमिकी
चेनारी प्रखण्ड के मतगणना में अनुपस्थित रहने वाले काउंटिंग माइक्रो ऑब्जर्बर रंजीत कुमार, नीतिश कुमार केशव, संदीप कुमार, प्रशांत प्रताप सिंह पर प्राथमिकी होगी। जबकि काउंटिंग सुपरवाइजर में जय प्रकाश सिंह, निशांत कुमार तिवारी, जीतेंद्र राम, संजीव कुमार सिंहा एवं रमेश चरण पर एफआईआर दर्ज होगा। काउंटिंग सहायक में अमन राज, संतोष कुमार विमल, मोहम्मद नअमुद्दीन, बिरेंद्र राय, रघुबीर प्रसाद, सुनिल कुमार सिंह, सरदार शशिपाल सिंह, दिलीप कुमार वर्मा एवं विजय कुमार का नाम शामिल है जिसपर प्राथमिकी की तैयाारी है।