14 अप्रैल को हर साल बाबासाहेब अंबेडकर की जयंती देश भर में मनाई जाती है। डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर को भारत के महान व्यक्तित्व और नायक के रूप में जाना जाता है। अंबेडकर जी खुद एक दलित थे। इस वजह से उन्हें बचपन से ही कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। ‘भारतीय संविधान के पिता’ डॉ. बी आर अंबेडकर आजादी के बाद भारत के पहले कानून और न्याय मंत्री बने। देश के विकास में कई तरह से योगदान देने वाले अंबेडकर जी के सम्मान में ही हर साल उनके जन्मदिवस को सेलिब्रेट किया जाता है इस उपलक्ष में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 130 वी जयंती के उपलक्ष्य में बुधवार को जोबनेर सहित आस पास के क्षेत्र में धूमधाम से मनाई गई आसलपुर में बाबा साहेब की प्रतिमा पर विश्व हिन्दू परिषद सांभर जिलाध्यक्ष शिवजी राम कुमावत सहित अनेक लोगों ने पुष्पांजलि अर्पित कर बाबा साहेब की जीवनी पर प्रकाश डाला इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद सांभर जिलाध्यक्ष शिवजीराम कुमावत, रघुनाथ जाजोरिया, नंदलाल जाजोरिया, देवकरण जाजोरिया, नरेंद्र शर्मा, राजेश जाजोरा, एडवोकेट रामलाल कुमावत, मदनलाल जाजोरिया,अमित जोशी, नेमीचंद जाजोरिया, दिनेश जाजोरिया, ओमप्रकाश जाजोरिया, जितेंद्र प्रजापत (नेहरू युवा केंद्र), दीनदयाल जाजोरिया, मुकेश प्रजापत, उमेश कुमावत, विशाल पुरी गोस्वामी, धर्मेंद्र वर्मा, जेयस वर्मा, राजीव सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे।