प्रदेश में आमजन के बाद अब कांग्रेस और भाजपा नेता बांट रहे है कोरोना

0
188

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। देश के साथ साथ प्रदेश में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बड़ी तेजी के साथ आगे बढ़ती जा रही है। पिछले कई दिनों से प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 1400 या इससे अधिक आ रही है। वहीं प्रतिदिन 13 से 14 लोगों की मौत हो रही है। इसी के साथ ही राजस्थान में कोविड19 मरीजों की संख्या करीब 80 से ज्यादा हो गई है। वहीं मरने वालों की संख्या भी 1000 से ज्यादा पहुंच गई है। ऐसे में इन आंकड़ों को देखकर अब आमजन की चिंता बढ़ने लगी है।

साथ ही अब साफ नजर आ रहा है कि प्रदेश में किस तरह से कोरोना को लेकर हालात खराब काफी खराब हो गए हैं। लेकिन प्रदेश के नेता चाहे वो किसी भी पार्टी क्यों न हो इस महामारी की ओर न देखकर केवल अपनी रोटी सेकने में लगे है और फिर चाहे कांग्रेस हो या फिर भाजपा दोनों ही पार्टियों के नेता अपनी राजनीति चमकाने के लिए भीड़ एकत्रित कर रहे हैं।

इसी बीच बता दें कि कभी कोरोना संक्रमण रोकने को लेकर देश के लिए मॉडल बनी अशोक गहलोत सरकार खुद भी अब कोरोना बांटने में पीछे नहीं है। यह कहा जाने लगा है कि राजस्थान के नेता विशेषकर कांग्रेस सरकार कोरोना बांटने में जुटी है। नेताओं को लग रहा है कि यदि वे घर में बैठे रहेंगे तो उनकी राजनीति कमजोर हो जाएगी। लेकिन बता दें कि हाल ही में भाजपा और कांग्रेस के कई मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए है।

साथ ही फिलहाल कोरोना महामारी को देखते हुए प्रदेश में धारा-144 लागू है, इसके तहत किसी भी स्थान पर 5 या इससे अधिक लोग एकत्रित नहीं हो सकते। लेकिन कांग्रेस और भाजपा दोनों ने ही पिछले चार दिन में नियमों की धज्जियां उड़ाई है। इसी का परिणाम है कि चार दिन में एक दर्जन नेता संक्रमित भी हुए हैं। केंद्र सरकार ने सामाजिक समारोह में 100 लोगों के शामिल होने की छूट दी, लेकिन सीएम गहलोत ने महामारी को देखते हुए यह सीमा 50 ही तय कर दी। लेकिन तीन दिन पहले खुद गहलोत ने ही अपने द्वारा बनाए गए नियमों को दरकिनार कर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन के सम्मान में रात्रि भोज दिया, जिसमें 100 से अधिक लोग शामिल हुए।

माकन दो दिन तक जयपुर के खासाकोठी होटल में रूके तो उनसे मिलने बड़ी सख्या में मंत्री, विधायक और कांग्रेसी पहुंचे। इतना ही नहीं वहां भीड़ अधिक होने पर धक्का-मुक्की भी हुई। साथ ही बता दें कि 7 सिंतबर को सचिन पायलट के जन्मदिन पर रक्तदान शिविर सहित कई कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी की जा रही है। जिसमें बड़ी संख्या में भीड़ जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। अब सवाल उठने लगा है कि देश में सबसे पहले लॉकडाउन और रामगंज व भीलवाड़ा मॉडल को लेकर देश में चर्चा में आई गहलोत सरकार खुद कोरोना फैला रही है।