पहली बार सार्वजनिक बोले सिंधिया, चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस ने दिया था उप मुख्यमंत्री का पद देने का प्रस्ताव लेकिन…

0
121

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कांग्रेस से भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए मध्यप्रदेश के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हाल ही में एक बड़ा बयान दिया। भाजपा में आए राज्यसभा सांसद सिंधिया ने बताया कि दिसंबर 2018 में मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार आने पर पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने मुझे मध्यप्रदेश के उप मुख्यमंत्री का पद देने का प्रस्ताव किया था। लेकिन मैने जनता की सेवा के लिए कांग्रेस से मिले इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।

साथ ही राज्यसभा सांसद सिंधिया ने कहा कि मुझे उसी समय अंदाजा था कि 15 महीने में ही कमलनाथ के नेतृत्व वाली प्रदेश की कांग्रेस सरकार गिर जाएगी और मेरा ये अंदाजा एकदम सटीक रहा। साथ ही उन्होंने बताया कि, हम किसी सिंहासन के सेवक नहीं हैं, अगर कुर्सी-सिंहासन के सेवक होते, तो जब मुझे उपमुख्यमंत्री बनने को कहा गया था मैं उसे स्वीकार कर लेता।

बता दें कि यह पहला अवसर है जब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया है कि उन्हें मध्यप्रदेश के उप मुख्यमंत्री के पद का ऑफर दिया गया था। बहरहाल बता दें कि मध्य प्रदेश में 27 सीटों पर उपचुनाव होना है और इनमें अधिकतर वो सीटें शामिल हैं। जहां से सिंधिया के समर्थक विधायकों ने इस्तीफा देकर भाजपा का हाथ थामा था। ऐसे में भाजपा के राज्यसभा सांसद सिंधिया ने प्रचार की कमान संभाल ली है।