धान गेहूं से भी सस्ती कीमत पर क्यों बिक रहा है : मनोज दुबे

0
9

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। अखिल भारतीय बेरोजगार मजदूर किसान संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज दुबे ने मंडियों में एमएसपी से किसानों की उपज की खरीद शुरू करने की मांग करते हुए कहा कि धान गेंहू से भी सस्ती कीमत पर क्यो बिक रहा है? अगर मोदी सरकार के द्वारा लाए गए बिल किसानों के हित में है। तो किसानों को धान का उचित दाम क्यों नही मिल रहा?

दुबे ने कहा कि मोदी सरकार कह रही है कि किसानों के हित में 3 बिल लेकर आई है। फिर देश में धान उत्पादक किसान बेहद परेशानी में क्यो हैं? धान की खरीद बहुत कम कीमत पर क्यों हो रही है? जो थोड़ी सी खरीद हो रही है उसमें किसानों को 1800 रुपये क्विंटल से भी कम कीमत मिल रही है। यही धान पिछली कांग्रेस सरकार में 3,500 रुपये क्विंटल तक बिका था। किसानों को धान का पूरा दाम नही मिलने से किसानों का शोषण हो रहा है। शायद पहली बार ऐसा है कि धान गेंहू से सस्ती कीमत पर बिक रहा है ऐसे में तो किसान की लागत भी नहीं निकलेगी। किसान अगली फसल कैसे लगाएगा? महंगी बिजली व पैट्रोल डीजल में लूट चल ही रही है। मजबूरन किसान कर्ज के जाल में फँसता जाएगा। क्या ऐसे ही किसान की आय दोगुनी होगी? एक्सपोर्ट बंद होने से 3 साल में 3800 रुपये क्विंटल से घटकर लगभग 1800 रुपये क्विंटल पहुचे धान के दाम।

दुबे ने केंद्र व राज्य सरकार को लिखे पत्र में कहा कि ख़रीद केंद्र शुरू नही होने से किसानों को अपनी उपज कम कीमत पर बेचने को मजबूर होना पड़ रहा है।केंद्र सरकार व राज्य सरकार तुरंत इसमें हस्तक्षेप कर किसान को सही दाम दिलाए वरना किसान तवाह ओर बर्बाद हो जाएगा।