सुजानगढ़ मंगलवार को घंटाघर के पास दुकानें खोलने की अनुमति देने को लेकर व्यापारियों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। ये कपड़े, जूते, ज्वेलरी, स्टेशनरी, मिठाई, कॉस्मेटिक और गिफ्ट वाले दुकानदार थे। व्यापारियों ने कहा आवश्यक सेवाओं के नाम पर आधे से ज्यादा मार्केट खुला पड़ा है। ट्रैफिक आम दिनों से भी ज्यादा है। ऐसे में हमारी दुकानें बन्द होने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। व्यापारियों ने कहा या तो मार्केट पूरी तरह बन्द करें या फिर हमें भी दुकानें खोलने की अनुमति दें। मिठाई व्यापारी सुरेश अरोड़ा ने कहा गाइडलाईन में मिठाई और बेकरी व्यापारियों को होम डिलीवरी की छूट है। फिर भी हमें दुकानें नहीं खोलने दी जा रही है। व्यापारी बॉबी जैन, मनोज अरोड़ा, वीरेन्द्र जैन, असलम मौलानी, खुशीराम चाँदरा ने भी अपनी बात रखी।विरोध तब शुरू हुआ जब करीब 1 बजे प्रशासन का दस्ता खुली हुई दुकानों को बंद कराने पहुंचा। व्यापारियों ने दुकानें बंद नहीं की और विरोध जताया। मामले को बढ़ता देख एसडीएम मूलचन्द लूणिया, नगर परिषद आयुक्त सोहनलाल नायक और सीआई किशन सिंह मौके पर पहुंचे और व्यापारियों से समझाइश की। एसडीएम ने कहा यह राज्य सरकार की गाइडलाईन है। हम अनुमति नहीं दे सकते। हम आपकी बात आगे पहुंचा देंगे। इसके बाद व्यापारियों ने आयुक्त को मुख्यमन्त्री के नाम का ज्ञापन सौंपा जिसमें दुकानें खोलने की अनुमति देने की बात कही। ज्ञापन देने वालों में विजय शर्मा, आदर्श अरोड़ा, अतुल अरोड़ा, फयाज खान, विनीत जैन, पवन बेड़िया, अजय चौरड़िया मौजूद थे।