भीलवाड़ा कोरोना के बढ़ते प्रकरणों की रोकथाम हेतु गठित जिला स्तरीय कोर गु्रप की बैठक गुरूवार को जिला कलक्टर शिवप्रसाद एम. नकाते की अध्यक्षता में जिला कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित हुई।नकाते ने बैठक में मौजूद निजी अस्पतालों की माॅनिटरिंग हेतु नियुक्त नोडल आॅफिसर्स से आॅक्सीजन सिलेंडर की खपत, बेड, रेमडेसिविर इंजेक्शन आदि की उपलब्धता की जानकारी ली।उन्होंने कहा कि निजी अस्पताल गंभीर संक्रमित मरीज को प्राथमिकता दे एवं सामान्य संक्रमण वाले मरीज को डिस्चार्ज पाॅलिसी के तहत डिस्चार्ज किया जाये।उन्होंने नोडल आॅफिसर को निर्देश दिये कि निजी अस्पतालों में रेमडेसिविर इंजेक्शन पात्रता रखने वाले मरीजों को लगाने के लिए पाबंद किया जाये,साथ ही आॅक्सीजन की महत्त्वता को देखते हुये आॅक्सीजन सिलेंडर का दुरूपयोग किसी भी मरीज को नहीं करने देने के निर्देश दिये।जिला कलक्टर ने बैठक में मौजूद ड्रग इंस्पेक्टर को निर्देश दिये कि इस महामारी के दौरान कोविड उपचार हेतु संबंधित दवाईयों का किसी भी मेडिकल स्टोर को अनावश्यक स्टाॅक नहीं करने दे जिससे कि कालाबाजारी की स्थिति ना हो।बैठक में जिला परिषद रामचंद्र बेरवा, एसीईओ एन.के. राजौरा, राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी राजेश सुवालका एवं निजी अस्पतालों हेतु नियुक्त नोडल आॅफिसर महिपाल सिंह, डीपी जागावात, मुकेश गुर्जर, विपुल जानी, श्री संजय माथुर, सूर्यप्रकाश संचेती एवं आॅक्सीजन सिलेंडर कमेटी के सदस्य नारायण लाल जागेटिया, विष्णु शर्मा मौजूद रहें।