जेडीए की जमीन पर ठेकेदार बने भूमाफिया, मिट्टी बेचकर कमा रहे चांदी

0
24

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। क्षेत्र में ठेकेदार भूमाफिया बनकर कर रहे है मोटी कमाई। निकटवर्ती जयसिंहपुरा ग्राम में कोर्ट द्वारा 72 बीघा कच्ची बस्ती को खाली करवाया गया था। जिसकी लेवलिंग हेतु जेडीए ने ठेकेदारों को टेंडर दिए। परन्तु जेडीए एवं प्रशासन की अनदेखी के चक्कर में ठेकेदारो ने सरकारी मिट्टी एवं मलबे को बेचने का गोरखधंधा शुरू कर दिया। जेसीबी कर्मी से बात की तो उसने बताया कि एक डम्पर की रेट 2000 रुपया है, इस पर जब ठेकेदार से बात की तो उसने बताया कि मैने 10 लाख रुपये का वर्क आर्डर जेडीए से ले रखा है। इस मामले की पुष्टि के लिए जब जोन 11 के डीसी एनएस तंवर से बात की तो उन्होंने बताया कि इस तरीके से मिट्टी बेचने का कोई वर्क आर्डर जेडीए ने नहीं दिया है एवं आश्वासन दिया कि अगर इस तरीके का कोई प्रकरण हुआ है तो उसकी जांच करवा कर उचित कार्यवाही की जाएगी। लेकिन इसके बावजूद भी ठेकेदारों के हौसले बुलंद नजर आए। प्रशासन को मामले की जानकारी देने के पश्चात भी अपनी हरकतों से बाज नही आये और लगभग पूरा दिन जेसीबी चलाकर मिट्टी एवं मलबे का दोहन कर बेचते रहे। ऐसे में जेडीए की कार्यवाही पर सवालिया निशान खड़ा होता है कि आखिर ऐसे ठेकेदारों के टेंडर क्यों निरस्त नही किये जाते। जो प्रशासन की नाक के नीचे सरकारी मिट्टी का काला व्यापार करते है। गौरतलब है कि इंजीनियर की गैर मौजूदगी एवं प्रवर्तन अधिकारियों की लापरवाहियों के नतीजे से ऐसे भूमाफिया पनपते है।