भ्रष्टाचार सरकारी तंत्र में किस तरह हावी हो रहा है, इसका अंदाजा भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) की लगातार हो रही कार्रवाई से लगाया जा सकता है। सिरोही में तहसीलदार घूस प्रकरण हो या फिर अजमेर (Ajmer) में आरएएस द्वारा रिश्वत लेकर फैसला सुनाने का प्रकरण हो भ्रष्टाचार (Corruption)​ लगातार बढ़ ही रहा है। रविवार को राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) का एक सहायक पुलिस निरीक्षक एएसआई 45 हजार रुपए लेते गिरफ्तार (Arrest) हो गया। एसीबी (ACB) पाली के अतिरिक्त पुलिस (Police) अधीक्षक नरपत ​चंद ने बताया कि जालोर (Jalore) के सायला पुलिस थाने का एएसआई बाबुलाल राजपुरोहित परिवादी से एक मामले में एफआर लगाने और दूसरे मामले में आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के एवज में 50 हजार रुपए की मांग की थी। इस पर परिवादी ने एसीबी (ACB) से संपर्क किया। परिवादी ने शनिवार को रिश्वत (Riswat) में 5 हजार रुपए आरोपी एएसआई को दिया था। बाकी के 45 हजार रुपए की रिश्वत (Riswat) आज ले रहा था। एएसआई बाबुलाल ने रिश्वत के रुपए लेने के बाद पेंट की जेब में रख लिए और रवाना हुआ ही था कि एसीबी की टीम ने उसे गिरफ्तार (Arrest) कर लिया।