जर्जर सड़कों पर भी देना पड़ रहा है वाहन चालकों को टोल

0
27

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कोटा श्योपुर राजमार्ग पर बीओटी योजना के अंतर्गत निर्माण कार्य किया गया था। इसका निर्माण कार्य हुए करीब चार पांच साल से अधिक का समय निकल गया है। जिसके बाद से आज दिन तक टोल नाके के ठेकेदार द्वारा व सरकार द्वारा इस पर कोई पैच वर्क कार्य नहीं किया गया है। जिससे सड़कों पर बड़े-बड़े गड्ढे बने हुए हैं। जिस पर टोल वसूलने वाली फर्मबी कोई ध्यान नहीं दे रही है। जबकि निजी वाहनों से वह पैसेंजर वाहनों से सरकार द्वारा निर्धारित पूरा टोल वसूला जा रहा है। जबकि मरम्मत के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। जिससे लोगों को वाहन चलाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में भाजपा ईटावा मंडल अध्यक्ष ओम प्रकाश मीणा, सीएडी अध्यक्ष हरि प्रकाश मीणा, मुरलीधर केवट, रामावतार मीणा, गणेश गंज, श्याम मीणा, डोरली सहित अन्य कहीं ग्रामीणों ने बताया कि सड़क देखरेख की जिम्मेदारी भी टोल वसूलने वाली कंपनी की हुआ करती है। लेकिन यहां पर तो टोल वसूलने वाली कंपनी भी अपनी कोई जिम्मेदारी ठीक प्रकार से नहीं निभा रही है। ऐसे में बड़ोद कस्बे में भी सड़क की हालत जर्जर हो रही है। जिस पर आज दिन तक कोई ध्यान नहीं दिया गया।

मारवाड़ा चौकी पर भी सड़क जीर्ण शीर्ण अवस्था अवस्था में हो रही है। जो वाहन चालकों के लिए परेशानी का सबक बनी हुई है। वही सड़क पर कंपनी द्वारा रिफ्लेक्टर आदि भी नहीं लगाए जाते हैं। लेकिन यहां पर इस सड़क मार्ग पर सड़क के दोनों और कोई रिफ्लेक्टर नहीं लगाए गए हैं। जिससे भी दुर्घटनाएं होने की संभावनाएं बनी रहती है। वहीं इस सड़क मार्ग पर दोनों साइडों में बड़े-बड़े पेड़ सड़कों पर आ रहे हैं। जो लोडिंग वाहनों में बोरियां फटने का अंदेशा भी बना रहता है। ऐसे में ग्रामीणों की मांग है कि टोल प्लाजा पर जो सुविधाएं सरकारी नियमानुसार वाहन चालकों को या उसमें बैठे लोगों को मिलनी चाहिए। वह दिलाने की मांग की गई है।

क्या करना है अधिकारी का
स्टेट हाईवे 70 पर क्षतिग्रस्त सड़कों के बारे में एक्सईएन हुकम चंद मीणा ने बताया कि मुझे अभी कुछ समय हुआ है ज्वाइन किए हुए। हालांकि मैंने चेतक जैन कंपनी के टोल वालों को नोटिस जारी कर दिया है कि 10 दिन के अंदर क्षतिग्रस्त सड़कों को ठीक कराने व सड़क की साइड के दोनों और उग रहे जंगल को सफाई कराने के लिए मौखिक तौर पर भी बोल दिया गया है। अगर कार्य नहीं किया गया तो उनको फिर से नोटिस जारी किया जाएगा और सरकारी गाइडलाइन के अनुसार उनको कार्य करना होगा। पिछले कुछ दिनों पूर्व दीगोद में भी नेताओं द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया था। उस समय भी चेतक जैन कंपनी को सड़क ठीक कराने अन्य कहीं कार्यों के लिए बोला गया था।