जयपुर। अखिल भारतीय गुर्जर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जयपुर के समाजसेवी रवि शंकर धाभाई ने सोमवार को राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मेल एवम ट्विटर के माध्यम से भेजे गए पत्र द्वारा मांग कि लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुनी गई जयपुर ग्रेटर महापौर डॉ सौम्या गुर्जर को इस प्रकार से निलंबन अनुचित है और अखिल भारतीय गुर्जर महासंघ इसकी कड़े शब्दों में निंदा करता है। जयपुर प्रथम महिला महापौर बहुत ही सहरानीय काबिल ए तारीफ कार्य कर रही थी। यह राज सरकार की दुर्भाग्यपूर्ण कार्रवाई है और इस प्रकार से जयपुर ग्रेटर महापौर की जयपुर नगर निगम की सदस्यता रद्द करना एक तानाशाही रवैया है और कानून का दुरुपयोग किया गया है।समाजसेवी रवि शंकर धाभाई ने अपने पत्र में लिखा है कि जयपुर ग्रेटर की महापौर को बिना उचित जाँच एवम सुनवाई के आधी रात को पद से निलंबन अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण औऱ अविश्वसनीय कृत्य है । इस प्रकार एक कृत्य की घोर निंदा करते हैं। इस महामारी आपदा के दौरान इस प्रकार के आदेश जारी करना उचित नही है और आम जनता में गलत संदेश गया है और काफी रोष है। इसलिए डॉ सौम्या गुर्जर के महापौर पद के निलंबन आदेश को तुरंत प्रभाव से रद्द किया जावे।