गोविन्दगढ़। कस्बे के समीप गांव साकीपुर में मंगलवार को हुए झगड़े में घायल हुए व्यक्तियों में से एक व्यक्ति की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। मृतक का नाम नजब खां उर्फ दीनू ने अपना दम तोड़ दिया। जिससे गुस्साए परिजनों ने 50 से 60 लोगों के साथ थाने का घेराव किया ।परिजनो ने पुलिस पर आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करने का आरोप लगाया। मृतक के परिजनों ने शव को थाने के सामने रखकर धरना देने का भी प्रयास किया। लेकिन अलवर दक्षिण डीएसपी ओमप्रकाश मीना की समझाइश के बाद परिजन मान गए और शव को लेकर अपने गाँव चले गए। पुलिस ने मृतक के परिजनों को 3 दिन में बचे आरोपियों को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया है।

ये है पूरा मामला:-

IMG 20210610 WA0063

थाना अंतर्गत गांव साकीपुर में मृतक नजब खान की पोती की शादी कुछ वर्ष पहले ही हुई थी। जिसके बाद लड़की के ससुराल पक्ष के लोग अक्सर झगडा करते रहते थे। घटना के दो दिन पूर्व भी लड़की के साथ झगड़ा हुआ था जिसके बाद लड़की ने अपने परिजनों को फोन कर दिया लड़की गांव ऊँचकी थाना पहाड़ी जिला भरतपुर की निवासी थी। जिसके बाद लड़की के परिजन समझाइश करने दिनांक 7 जून को गांव साकीपुर आए लेकिन लड़की के ससुराल वालों ने समझाइश करने आए परिजनों पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया जिसमें पांच से छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। जिनमें से गंभीर रूप से घायल नजब खान को सरकारी चिकित्सा लय अलवर में भर्ती करवाया गया वहां से उसे जयपुर रैफर किया गया किंतु परिजन उसे सानिया हॉस्पिटल में ले गए वहां उसका ऑपरेशन भी सफल बताया जा रहा था लेकिन बाद में उसने अपना दम तोड़ दिया। लड़की के परिजनों ने साकीपुर के ही मुस्ताक नामक युवक पर लड़की के साथ जबरन दुष्कर्म करने का मामला भी दर्ज कराया है।*पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार-पुलिस ने घटना के तुरंत बाद ही मामले पर संज्ञान लेते हुए थाना अधिकारी चंद्रशेखर शर्मा ने टीम का गठन कर के एक आरोपी को घटना के दिन ही हिरासत में ले लिया था और गुरुवार को घायल ने जब अपना दम तोड़ दिया तो विशेष टीम का गठन करके शेष आरोपियों की तलाश भी शुरू कर दी थी ।*मृतक के परिजनों के विरोध प्रदर्शन के चलते थाना अधिकारी ने बुलाया अतिरिक्त जाब्ता*पुलिस को मृतक के गुस्साए परिजनों कि जैसे ही सूचना मिली पुलिस ने तुरंत नौगांव थाने की पुलिस तथा क्यूआरटी सहित और एक बस अलवर लाइन से अतिरिक्त जाब्ता के साथ बुला लिया।

IMG 20210610 WA0065

हालांकि गुस्साए परिजन अलवर दक्षिणी डीएसपी ओमप्रकाश मीना की समझाइश के बाद मान गए और शव को लेकर चले गए।पुलिस ने शेष आरोपियों को 3 दिन में गिरफ्तार करने का दिया आश्वासन मृतक के परिजनों ने शव को थाने के सामने रखकर धरना देने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। पुलिस ने लोगों की भीड़ को थाने के सामने से खदेड़ दिया वही दक्षिण सीओ ओमप्रकाश मीना की समझाइस के बाद वो शव को लेकर चले भी गए। वहीं पुलिस ने बच्चे शेष आरोपियों को 3 दिन के अंदर गिरफ्तार करने का आश्वासन मृतक के परिजनों को दिया है।*ये है शेष बचे आरोपी*1. मुस्ताक पुत्र आलिया2.जुहरू पुत्र सूपड़ा3.जुबेदा पत्नी जुहरू 4.अनीशा पत्नी साकिर 5.जमीला पत्नी मजीद6. हरीश पुत्र बदलू 7.जमालुद्दीन पुत्र बदलू 8.सद्दाम पुत्र बदलू 9.उमर पुत्र बदलू 10.सेतूनी पत्नी जमालूके अलावा भी अन्य आरोपी बताए जा रहे है।