गुस्साए युवाओं ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का फूंका पुतला

0
67

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। डूंगरपुर जिले के काकरी डूंगरी पर पिछले 20 दिनों से धरना दे रहे आदिवासी छात्रों पर हुई गोलीबारी पर शराब मुक्त अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष सीएल ठीकरिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर तानाशाही का आरोप लगाया है।

आदिवासी छात्रों पर पुलिस द्वारा की गयी गोलीबारी के विरोध में युवाओं ने रविवार को ठीकरिया चौराहे पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला फूंककर गहलोत सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान आदिवासी नेता महेन्द्र नारेडा, जीतू खेडी, बबलेश मीना, नरेश खेडी, रामलाल, मनजीत ठीकरिया, सोनू बौहरा, रितेश आदि मौजूद रहे।

राष्ट्रीय अध्यक्ष सीएल ठीकरिया ने बताया कि डूंगरपुर में आदिवासी छात्र पिछले 20 दिनों से अपनी मांगो को लेकर संघर्षरत थे। लेकिन गहलोत सरकार सोती रही। यदि समय रहते वार्तालाप से समाधान निकल जाता तो आज सामाजिक कटुता नही फैलती और ना ही इतनी भयंकर फायरिंग करने की नौबत आती। गौरतलब है कि शिक्षक भर्ती 2018 के रिक्त 1167 पदों को जनजाति वर्ग से भरने की माँग को लेकर डूंगरपुर जिले के कांकरी डूंगरी पहाड़ी पर आदिवासी छात्र पिछले 20 दिनों से धरना दे रहे थे। लेकिन गहलोत सरकार द्वारा अनदेखा करने पर छात्रवर्ग में गुस्सा फूट पड़ा एवं गुस्साए छात्रों ने अपनी मांगे मनवाने के लिए आन्दोलन की राह पकड़ते हुए राजमार्ग को जाम कर पत्थरबाजी, आगजनी कर दी। जिस पर पुलिस द्वारा आंसू गैस एवं रबर की गोली मारने पर आन्दोलन उग्र होता गया।

बडे अन्दोलन की दी चेतावनी

शराब मुक्त अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष सीएल ठीकरिया ने बताया कि आदिवासी समाज अब जागरूक हो गया है। शिक्षक भर्ती परीक्षा में नियुक्ति को लेकर धरना दे रहे छात्रों पर गोलीबारी करने से आदिवासी समाज में भारी रोष व्याप्त है। यदि गहलोत सरकार ने आदिवासी छात्रों की माँगे नही मानी तो प्रदेश के छात्रों को लेकर मजबूरन सड़कों पर उतरना पड़ेगा।