गहलोत गुट पर दिख रहा है पायलट गुट अब ताकतवर…

0
160

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। राजस्थान कांग्रेस ने जिस तरीके से तेजी से सियासी घटनाक्रम बदल रहा है उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि केंद्र की कांग्रेस आलाकमान और राजस्थान के सचिन पायलट दोनों के बीच सामंजस्य बना हुआ है और इसकी वजह से गहलोत खेमा या तो खुद को कमजोर महसूस कर रहा है या फिर उसको कमजोर किया जा रहा है। अविनाश पांडे के प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पद से रवानगी के बाद हर कोई इंतजार कर रहा था कि सह प्रभारी की छुट्टी राजस्थान से कब होगी। राजस्थान में चार सह प्रभारी हैं इनमें से एक जो प्रमुख रूप से अक्सर दिखाई देते हैं और वह हैं विवेक बंसल।

अब सचिन पायलट गुट की तरफ से एक और झटका गहलोत गुट को दिया गया है, विवेक बंसल की राजस्थान से छुट्टी हो गई है और अब वह हरियाणा के स्वतंत्र प्रभारी के तौर पर काम करेंगे।

इसको सचिन पायलट की जीत और गहलोत के बैकफुट पर जाने के तौर पर भी देखा जा रहा है साथ ही जिस समझौते का जिक्र बार-बार होता है और जिसके लिए सचिन गुट कहता है कि वह बिना किसी शर्त के वापस आए हैं शायद उस समझौते के मुताबिक ही विवेक बंसल की छुट्टी हुई है।

लेकिन उनके कद को कम करने की जगह बढ़ाया गया है और सह प्रभारी के पद से उन्हें स्वतंत्र प्रभारी के तौर पर हरियाणा की जिम्मेदारी दी गई है वह अभी अलीगढ़ में है और माना जा रहा है कि कल वह कांग्रेस दफ्तर दिल्ली पहुंचेंगे और वहां पदभार ग्रहण करने के बाद हरियाणा की जिम्मेदारी संभालेंगे।