गरीबों में बांटने के लिए स्टोर में रखी गई खाद्य सामग्री में लगे कीड़े, आलू प्याज सड़ गए, आटे में लगी झिल्लियां…

0
31

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। इस संकट की घड़ी में जहां गरीब और मजदूर वर्ग को सहारे की जरूरत है वही एक बड़ी लापरवाही सामने आ रही है। कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच गरीब निर्धन मजबूर और असहाय लोगों को बांटने के लिए दान दाताओं के सहयोग से खरीदी गई खाने पीने की चीजें 2 महीने से सड़ रही हैं। एक तरफ जहां लोक डाउन के कारण लोग दाने-दाने के लिए तरस रहे हैं काम धंधे पूरी तरह से ठप हो गए हैं दो वक्त की रोटी के लिए आम आदमी मजबूर है। प्रशासन की इतनी बड़ी लापरवाही सामने गंभीर बात है। जिम्मेदार लोगों को यह भी नहीं पता है कि भारी मात्रा में खाने-पीने की सामग्री पिछले 2 महीने से पड़े पड़े खराब हो गई है।
गुरुवार को राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी  राजसमंद पंचायत समिति कार्यालय पहुंची तब इस के बारे में पता चला। कोरोना महामारी के दौरान गरीबों और जरूरतमंदों को बांटने के लिए स्टोर रूम में खाद्य सामग्री के पैकेट आदि पड़े थे। जिनका समय रहते वितरण नहीं किए जाने से ये पड़े पड़े खराब हो गए। बता दें कि स्टोर में चावल, प्याज, आटे, दाल आदि का स्टॉक पड़ा हुआ था। यहां तक कि आटे में कीड़े और झिल्लियां भी पड़ गई थी। यह सब देखने के बाद विधायक किरण माहेश्वरी पंचायत समिति के कर्मचारी और बीडीओ पर जमकर बरसी।पंचायत समिति के स्टोर रूम को जब खुलवाया गया तो वहां का नजारा देखकर सभी लोग हैरान रह गए। वहां खाद्य सामग्री के 2000 पैकेट बने हुए रखे थे। जबकि सवा दो सौ दाल के कट्टे, 50 आटे के कट्टे, 10 उड़द और मूंग की दाल के कट्टे, पानी की बोतलों के कर्टन, नमक के कट्टे मिर्च मसाले आदि भी रखे हुए थे। जबकि एक बडे प्लास्टिक के थैले में आलू सड़ने की वजह से बेहद दुर्गंध आ रही थी। विधायक किरण माहेश्वरी ने बीडीओ को जमकर फटकार लगाई। एक ने कहा कि इसमें से साफ सामान की जल्द से जल्द छटनी करवा कर उसका जल्द से जल्द निस्तारण किया जाए। इसके लिए ग्राम पंचायत अनुसार गरीब और जरूरतमंद लोगों की सूची बनवाकर यह पूरा सामान उन में बांटा जाए।