बीकानेर के हिम्मतासर गांव में रविवार को खेल-खेल में 5 बच्चे अनाज की टंकी में छिप गए, दम घुटने से उनकी मौत हो गई इनमें 4 बच्चे सगे भाई-बहन थे, जबकि एक बच्ची ननिहाल आई थी; बच्चों की उम्र 8 साल से कम थी बीकानेर के हिम्मतासर गांव में पूरी तरह सन्नाटा पसरा है। कहीं से कोई आवाज आती है तो सिर्फ सिसकियों की और बीच-बीच में चिड़ियों की चहचहाहट खामोशी तोड़ देती है। कभी-कभी 70 साल के मालाराम के रोने की आवाज गांव के सन्नाटे को चीर देती है। मालाराम वह अभागा दादा है जिसके 4 पोते-पोतियां अब इस दुनिया में नहीं हैं। रविवार की रात खेल-खेल में 4 पोते-पोतियों समेत 5 बच्चे अनाज की टंकी कोठरी में छिप गए थे। तभी टंकी का ढक्कन गिर गया और दम घुटने की वजह से सभी बच्चों की मौत हो गई थी।