सीकर राजस्थान के सीकर जिले धोद गावं मे कोराना सदिग्ध मृत महिला का शव पांच घंटे तक घर के बाहर पड़े रहने के बावजूद जब अंतिम संस्कार कराने मे मदद करने कोई नही आया तो तहसीलदार रजनी यादव ने #PPE कि​ट पहनकर कांधा दिया। ओर मृतक के पति व दो पोतो के साथ मिलकर मृतक का अंतिम संस्कार भी किया कोविड 19 का खोफ है या लोगो की कोरोनाकाल मे इंसानियत मरने लगी है यह तो कहना तो अलग बात है लेकिन कुछ जगह संदिग्ध कोराना मरीजों की मोत होने पर उनके नजदीकी रिस्तेदार वगेरह भी अंतिम संस्कार करने मे कनी काटते नजर आते है।

IMG 20210511 123900

ऐसे हालात जब आज सीकर के धोद गावं मे घटने लगी तो तहसीलदार रजनी यादव ने अपना इंसानी फर्ज निभाया।मामला सीकर जिले के धोद गांव का है। जहां के वार्ड नंबर एक में रहने वाली महिला सायर कंवर की बीमारी से एक निजी अस्पताल में मृत्यु हो गई।अस्पताल के वाहन से दोपहर करीब 12 बजे शव को लाए और घर के बाहर उतार कर चले गए। महिला के पति श्योबख्श सिंह अपने छोटे पोते और पोतियों के साथ आसपास के लोगों से मृतक के शव को श्मशान ले चलने के लिए घर घर गुहार लगाते रहे, लेकिन कोई नहीं आया।जब इसकी जानकारी मिलने पर सामाजिक वर्कर हेमंत शर्मा ने सरपंच अमरसिंह को दी तो सरपंच ने धोद तहसीलदार रजनी यादव को सूचना दी।रजनी यादवने बीसीएमओ को फोन करके एंबुलेंस भेजने की घंटो मांग करती रही पर एंबुलेंस नही आई। रजनी यादव ने फिर प्राईवेट वाहन से शव को शमशान घाट लेजा कर स्वयं ने पीपीई किट पहन कर मृतक के पति व उनके पोते पोतियो की मदद से मृतक का दाह संस्कार किया।