मार्च में की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए राज्य में गहलोत सरकार ने 22 मार्च से जयपुर समेत 8 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगाया था, लेकिन इसका कोई खास असर नहीं दिखा। नाइट कर्फ्यू के बाद मंगलवार तक राज्य में मिले कोरोना केस में से 65 फीसदी से ज्यादा केस इन्हीं शहरों में सामने आए हैं। कोरोना के बढ़ते केसों को देखते हुए अब उन जिलों में भी कलेक्टरों ने नाइट कर्फ्यू लगा दिया, जहां केसों की संख्या इन शहरों की तुलना में बहुत कम है। इसमें भरतपुर, अलवर, बीकानेर शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, नाइट कर्फ्यू लगने के बाद 23 मार्च से अब तक राज्य में सत्रह हज़ार चार सौ चौरासी (17484) कोरोना के नए केस मिले हैं। इनमें से 11,442 केस तो केवल इन्हीं 8 शहरों में आए हैं। नाइट कर्फ्यू राजधानी जयपुर के अलावा अजमेर, भीलवाड़ा, जोधपुर, उदयपुर, कोटा और डूंगरपुर जिले के दो शहर कुशलगढ़ व सागवाड़ा में लगाया था। इन शहरों में सबसे ज्यादा केस जयपुर में 2 हजार नौ सौ सत्तानबे (997) आए हैं, जबकि सबसे कम 670 भीलवाड़ा में आए हैं। कोरोना केसों के अलावा मौत के आंकड़ों को देखें तो इन्हीं आठ शहरों में सबसे ज्यादा मौत हुई है। राज्य के कुल 33 जिलों में बीते 15 दिन के अंदर कोरोना से 47 मरीजों की जान चली गई। इसमें 27 मरीज इन 8 शहरों से थे।

p3aujdu8 ashok gehlot