कलाकार संघर्ष ग्रुप ने लोकसभा स्पीकर को दिया ज्ञापन, रोजगार मुहैया करवाने की मांग

0
19

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कलाकार संघर्ष ग्रुप कोटा के पदाधिकारियों ने शनिवार को लोक सभा स्पीकर ओम बिरला को ज्ञापन देकर संगीतमय कार्यक्रम शुरू कराने की मांग की। कलाकार संघर्ष ग्रुप के पदाधिकारियों ने ज्ञापन में बताया कि पिछले 8 महिनों से लोकडाउन के समय से संगीत के क्षेत्र में कार्य करने वाले कलाकार, साउण्ड वाले और संबंधित कार्य करने वाले लोगों की बहुत ही दयनीय स्थिति बनी हुई है। कोविड-19 के नियमों का तब से पालन करते हुये विगत 8 महिनों से वर्तमान समय तक घरों पर ही बैठे हुये हैं। जिससे कलाकारों को आर्थिक, पारिवारिक समस्याओं के साथ ही बैंको की लोन की एवं अन्य ईएमआई (किश्तों) की समस्या से जूझना पड़ रहा है।

बहुत से व्यापार, रोजगार, उद्योग चालू हो चुके हैं। किंतु कलाकारों का एक मात्र सहारा संगीतमय कार्यक्रम वर्तमान तक पूर्णरुप से बंद हैं। पिछले नवरात्रों व त्यौहारों पर भी लोकडाउन के कारण घर बैठना मजबूरी था। लेकिन लॉकडाउन खुलने के बाद भी नवरात्रों जैसे बडे़ त्यौहार होने पर भी धारा 144 के चलते धार्मिक व सामाजिक सभी कार्यक्रम बंद हैं और कलाकार श्रेणी का एक बडा़ वर्ग बेरोजगार बैठा हैं। अधिकतर गायन-वादन करने वाले कलाकार गरीब तबके के हैं। जिन्हें भूखे मरने तक की स्थिति आ गई है। ज्यादातर कलाकार कम पढे़ं लिखे होने व प्राईवेट नौकरी नहीं मिलने के कारण बेलदारी मजदूरी करने तक को मजबूर हैं। जो कमरे का किराया तक नहीं दे सकते हैं। ऐसी बुरी स्थिति कलाकार की बन गई है। कलाकारों के सामने परिवार को पालने के साथ रोजी रोटी का बहुत बडा़ संकट छाया हुआ है। सरकार की ओर से जो मदद कलाकारों के हित के लिये आ रही है। वो केवल आरटीडीएस के तहत जुड़े लोक कलाकार के लिये मिली है। जबकि इसके अलावा एक बहुत बडा़ कलाकारों का तबका है जो भजन संध्या, जागरण, आर्केस्ट्रा इवेन्ट्स, सांस्कृतिक व धार्मिक कथा के कार्यक्रम करते हैं और अभी तक उनका सरकारी पंजीयन नहीं है। सरकार की गाईडलाईन के तहत कलाकारों को भी कार्यक्रम करने की स्वीकृति प्रदान करें व राजस्थान में धारा 144 को बंद करके हमारे रोजगार चलाने के संबंध में तुरंत कार्यवाही करते हुये धार्मिक, सांस्कृतिक व सामाजिक संगीतमय कार्यक्रम करने की स्वीकृति प्रदान करें।