करौली पुजारी को जिंदा जलाने के मामले में समर्थन में उतरे सांसद और विधायक, मुआवजे और सरकारी नौकरी की उठी मांग

0
182

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। राजस्थान के करौली जिले के सपोटरा इलाके में पेट्रोल डालकर जलाए गए पुजारी बाबूलाल वैष्णव का शव देर रात उनके गांव पहुंचा। जिसके बाद शनिवार सुबह बड़ी संख्या में भाजपा नेता और कार्यकर्ता पीड़ित परिवार को सांत्वना देने पहुंचे। यहां पीड़ित परिवार द्वारा मांगें पूरी नहीं होने तक अंतिम संस्कार करने से इनकार किया जा रहा है। पीड़ित परिवार की मांग है कि उन्‍हें 50 लाख का मुआवजा और परिवार से एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

तो वही सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा, पूर्व विधायक मानसिंह मौके पर मौजूद रहे। राज्य सभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा और करोली धौलपुर सांसद मनोज राजोरिया ने पीड़ित के परिवार को 1-1 लाख रूपए की आर्थिक सहायता दी है। किरोड़ीलाल मीणा ने कहा कि, गांव की सभी जातियों के पंच-पटेलों के साथ बातचीत के बाद यह फैसला हुआ है कि पुजारी परिवार को हर हाल में न्याय मिलना चाहिए। अपराधियों को सख्त सजा होनी चाहिए। मैंने पुजारी के परिवार को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता की है। गहलोत सरकार अपनी नींद तोड़े और पीड़ित परिवार को इंसाफ दे।”

इस बीच, प्रशासन ने पुजारी के परिजनों से अंतिम संस्कार किए जाने का अनुरोध किया और कहां कि वे दाह संस्कार करें क्योंकि शव को रखे हुए दो दिन हो चुके हैं। बता दें कि करौली की ये घटना अब राजनीति रूप लेती जा रही है। बता दें कि 15 बीघा जमीन को लेकर कुछ लोगों ने पुजारी को पेट्रोल डालकर आग लगा दी है। उसके बाद गंभीर हालत में पुजारी को एसएमएस अस्पताल लेकर आए। जहां ईलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। पुलिस ने मामले में तत्परता दिखाते हुए आरोपी कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया है बाकी के आरोपियों की पुलिस तलाश कर रही है।