आलाकमान से मीटिंग के इंतजार के बाद जयपुर के लिए रवाना हुए सचिन पायलट, विशेष सूत्रों की मानें तो पायलट को तीन मंत्री पद की दी गई है फाइनल ऑफर, बाकी समर्थक विधायकों को बोर्ड और निगम में किया जाएगा एडजस्ट, वहीं सूत्रों की मानें तो अभी तक इस ऑफर पर पायलट ने नहीं दी है अपनी सहमति, पायलट अभी भी अपने लिए मांग रहे 5 से 6 मंत्रीपद, लेकिन इस बार आलाकमान से आई है 3 मंत्रिपद की दो टूक, अब जयपुर में अपने समर्थक विधायकों और कार्यकर्ताओं से चर्चा के बाद पायलट लेंगे फैसला, इसी बीच आई एक और बड़ी खबर, अगर पायलट तीन मंत्री पद के लिए मान जाते हैं तो गृह मंत्रालय जैसे भारी विभाग से हो सकती है भरपाई, यानी सचिन पायलट को दिया जा सकता है गृह विभाग, अमूमन गृह मंत्रालय या तो मुख्यमंत्री रखते हैं अपने पास या दूसरे नम्बर के नेता को दिया जाता है यह विभाग, हालांकि गृह विभाग आसानी से नहीं छोड़ेंगे सीएम गहलोत, लेकिन इस सियासी विवाद को निपटाने का बस यही है एक मात्र विकल्प, इसलिए सीएम गहलोत को भी पीछे खींचना होगा एक कदम, मगर यह सब मुमकिन है जब सचिन पायलट मान जाएं तब, वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का 2 महीने का होम क्वारंटाइन भी बन सकता मंत्रिमंडल विस्तार में बाधा, लेकिन इस पर भी आई सियासी जानकारों की टिप्पणी, अगर पायलट तीन मंत्री पद के लिए भर देते हैं हां तो सीएम अशोक गहलोत भी मंत्रिमंडल विस्तार के लिए राज्यपाल को लिख देंगे पत्र, सारी बातों का लब-ओ-लुआब राजस्थान में इसी महीने जल्द से जल्द हो सकता है मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों का काम