कंगना रनौत को मिली ‘वाई’ कैटेगरी की सुरक्षा, जानिए क्या है वाई कैटेगरी सुरक्षा

0
37

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बॉलीवुड की क्वीन कही जाने वाली स्टार अभिनेत्री कंगना रनौत को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी है। दरअसल, बॉलीवुड स्टार कंगना रनौत और शिवसेना नेता संजय राउत के बीच जुबानी जंग तेज हो गई थी। ऐसे में शिवसेना नेता संजय राउत ने कंगना को मुंबई न आने की नसीहत दी थी।

लेकिन हमेशा सुर्खियों में छाई रहने वाली स्टार अभिनेत्री कंगना भी कहा पीछे रहने वाली थी। कंगना ने भी खुला चैलेज कर संजय राउत को लेकर कह डाला है कि अगर किसी के बाप में दम है तो मुझे रोक के दिखाए मैं 9 सितंबर को मुंबई आ रही हूं और ऐसे में कंगना ने खुला चैंलेंज किया था।

ऐसे में अब कंगना को केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। इसी के साथ अब कंगना की सुरक्षा में करीब 7 पुलिसकर्मी तैनात होंगे। साथ ही बता दें कि इस पर कंगना ने गृह मंत्री अमित शाह को धन्यवाद दिया और कहा कि, ये प्रमाण है की अब किसी देशभक्त आवाज़ को कोई फ़ांसीवादी नहीं कुचल सकेगा, मैं अमित शाह जी की आभारी हूं। वो चाहते तो हालातों के चलते मुझे कुछ दिन बाद मुंबई जाने की सलाह देते मगर उन्होंने भारत की एक बेटी के वचनों का मान रखा, हमारे स्वाभिमान और आत्मसम्मान की लाज रखी, जय हिंद।

गौरतलब है कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद फिल्म इंडस्ट्री के एक धड़े में नशीली दवाओं के उपयोग के बारे में बोलने के बाद कंगना रनौत को नए सिरे से मिल रही धमकी के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है।

आइए, अब जानते हैं कि आखिर जेड प्लस और जेड सिक्योरिटी क्या है? जेड प्लस से जेड कैटगरी में सुरक्षा व्यवस्था बदलने से क्या पर्क पड़ सकता है?

भारत में नेताओं, अधिकारियों या किसी शख्स की सुरक्षा खतरों को देखते हुए उन्हें सरकार और पुलिस द्वारा सुरक्षा मुहैया कराई जाती है। खतरों को देखते हुए ही जेड प्लस, जेड, वाई या एक्स कैटगरी की सुरक्षा देने का फैसला किया जाता है। इस तरह की सुरक्षा पाने वाले अधिकांश लोग केंद्र सरकार के मंत्री, राज्यों के मुख्यमंत्री, सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीश, मशहूर राजनेता और कुछ सीनियर ब्यूरोक्रेट्स होते हैं। भारत में फिलहाल करीब 450 लोगों को इस तरह का सुरक्षा कवच मिला हुआ है। इनमें से 15 को जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा मिली हुई है।

किस कैटगरी में कितने सुरक्षाकर्मी?

जेड प्लस कैटगरी में 36 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं। इनमें 10 एनएसजी और एसपीजी कमांडो होते हैं और शेष पुलिस दल के लोग होते हैं। यह सुरक्षा वीवीआईपीज को मिली होती है। सुरक्षा के पहले घेरे की जिम्मेदारी एनएसजी की होती है, जबकि दूसरे लेयर में एसपीजी के अधिकारी होते हैं। इनके अलावा आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान भी सुरक्षा में तैनात होते हैं। जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा के तहत प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्रियों को एसपीजी कमांडो सुरक्षा कवच प्रदान करते हैं।