कोटा – क्षेत्र के दीगोद एसडीएम कार्यालय में लंबे समय से खाली चल रहे एसडीएम के पद पर सरकार द्वारा शुक्रवार देर रात आदेश निकालते हुए केशवरायपाटन एसडीएम हरबिंदर डी सिंह को लगाया गया है। जिसके बाद यहां अतिरिक्त कार्य संभाल रहे कनवास एसडीएम राजेश डागा कोयहां से वापस कनवास जाने की खबर से क्षेत्र में जनता में खासी नाराजगी भी है ग्रामीणों की मांग है कि एसडीएम राजेश डागा को स्थाई रूप से दीगोद एसडीएम लगाया जाए ताकि क्षेत्र के लोगों को त्वरित राहत मिले। इसको लेकर उन्होंने क्षेत्रीय विधायक भरत सिंह से भी मांग करते हुए दीगोद में एसडीम राजेश डागा को ही स्थायी लगाने की मांग की है। गौरतलब है कि अल्पकालिक समय में भी दीगोद उपखंड का अतिरिक्त चार्ज होने कनवास एसडीएम राजेश डागा द्वारा क्षेत्र की अनेक वर्षों पुरानी समस्याओं का त्वरित समाधान किया। इसमें सुल्तानपुर कस्बे में 20 वर्षों से अधूरे पड़े बस स्टैंड का निर्माण हो या फिर क्षेत्र में चरागाह भूमि से अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही। सभी मे एसडीएम डागा ने जनता के दिलो में अमिट छाप छोड़ी । विगत कुछ माह से जो भी दीगोद उपखण्ड मुख्यालय समस्या लेकर जाता वह कभी निराश होकर नही लोटा। साथ में ही कोरोना काल में एसडीएम डागा द्वारा नवाचार के माध्यम से क्षेत्र में संक्रमण की चेन को तोड़ा और आमजनता को खासी राहत भी पहुचाई। ऐसे में डागा के स्थान पर अन्य एसडीएम की नियुक्ति देख सोशल मीडिया पर भी युवा शक्ति संगठन की और से शनिवार को ग्रामीणों ने सरकार से नाराजगी प्रकट करते हुए एसडीएम राजेश डागा को स्थायी नियुक्ति देने की मांग की।