Deepika Jangir: ओपन-सोर्स प्लेटफॉर्म गिटहब का इस्तेमाल करते हुए एक ऐप पर मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड किए जाने के करीब छह महीने बाद ऐसी ही एक और घटना सामने आई है। सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें ‘बुली बाई’ नामक ऐप पर अपलोड की गईं, जिसके बाद कई लोगों ने पुलिस से शिकायत करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया।

इससे पहले पिछले साल सुल्ली बाई ऐप (Sulli Bai app) पर ‘सुल्ली डील्स’ (Sulli Deals)को लेकर विवाद पैदा हुआ था। ‘सुल्ली’ या ‘सुल्ला’ मुसलमानों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला अपमानजनक शब्द है। माना जा रहा है कि ‘बुल्ली’ उसी का एक बदला हुआ रूप है। बुल्ली बाई ऐप सुली डील का एक क्लोन जैसा लग रहा है। सुल्ली डील में महिलाओं की तस्वीर डालकर ‘डील ऑफ द डे’ लिखा गया था।

दिल्ली पुलिस में एक महिला पत्रकार ने शनिवार को अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराकर आरोप लगाया कि मुस्लिम महिलाओं को शर्मिंदा करने और उनका अपमान करने के इरादे से उनकी ऐसी तस्वीर एक वेबसाइट पर डाली गई जिससे छेड़छाड़ की गई थी। महिला पत्रकार ने दक्षिणी दिल्ली के सीआर पार्क थाने में ऑनलाइन शिकायत की जिसकी प्रति उसने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा भी की।

एक ऑनलाइन समाचार पोर्टल में काम करने वाली इस महिला पत्रकार ने सोशल मीडिया और इंटरनेट पर ‘मुस्लिम महिलाओं को परेशान करने और उनका अपमान करने’ की कोशिश कर रहे अज्ञात व्यक्तियों के समूह के खिलाफ तत्काल प्राथमिकी दर्ज करने और जांच करने की मांग की। शिकायत में कहा गया है कि मैं आज सुबह यह जानकर स्तब्ध रह गई कि ‘बुल्लबाई डाट गिथुब डाट आईओ’ नामक एक वेबसाइट/पोर्टल पर मेरी एक अनुचित, अस्वीकार्य तस्वीर है जिससे छेड़छाड़ की गई है। इस संबंध में तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है, क्योंकि इसका उद्देश्य मुझे और अन्य स्वतंत्र महिलाओं एवं पत्रकारों को परेशान करना है। दिल्ली पुलिस ने ट्विटर पर जवाब दिया और कहा कि इस मामले का संज्ञान ले लिया गया है।