भीलवाड़ा कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के कहर से बढते पाॅजिटिव रोगियो की संख्या से षब तरफ कोहराम मचा हुआ है । ऐसे मे इस संक्रमित रोगी के लिए जीवनदायी ऑक्सीजन, रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी और कालाबाजारी के बाद अब ऑक्सीजन लेवल नापने का उपकरणऑक्सीमीटर सावधानी के लिए हाथ के ग्लब्स सहित कोविड से बचाव के साधनो की कमी और उनकी कालाजारी शुरू हो गई है । इसे यू कहे तो अतिशयोक्तिपूर्ण नही होगा की इन उपकरणो का व्यापार करने वाली की दूकाने चल पडी है और यह एक के दो कहो तो चार गुणा तक दाम वसूल रहे है। कोरोना की महामारी व खौफ के इस दौर में लोगों के लिए ब्लड ऑक्सीजन लेवल चेक करना महत्वपूर्ण हो गया है और डॉक्टर्स सलाह देते हैं कि समय समय पर ब्लड ऑक्सीजन लेवल चेक करना चाहिए यही कारण है की आपदा को अवसर में बदलते हुए भारत में पल्स ऑक्सीमीटर बनाने वाली कंपनियों ने इस डिवाइस की कीमतें बेतहाशा बढ़ा दी हैं। पहले पल्स ऑक्सीमीटर 1,000 से 1,500 रुपये में अच्छी क्वॉलिटी का मिल जाता था, लेकिन अब इसकी कीमत 3,000 रुपये तक हो चुकी है तथा ठीक ठाक क्वॉलिटी वाले ऑक्सीमीटर 5,000 रुपये तक में बेचे जा रहे हैं यह ऑनलाइन हो या ऑफला इन, हर जगह ये ज्यादा कीमत पर बेचा जा रहा है और कई जगह ये आउट ऑफ स्टॉक भी है। इनकी कीमत पर कोई लगाम नहीं है और अब चूंकि लोगों को इसकी जरूरत है, इसलिए महंगे कीमत पर भी इसे खरीदना पड़ता है। इसी तरह ग्लब्स, हैड शील्ड आदि की कमी बाजार मे है ।