अध्यादेशों के ख़िलाफ़ 14 सितम्बर को भामाशाह मंडी में एक दिवसीय धरना

0
19

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। केंद्र सरकार द्वारा लागू किसान विरोधी अध्यादेशों के ख़िलाफ़ 14 सितंबर सोमवार को कोटा में भामाशाह मंडी में सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक एक दिवसीय धरना दिया जायेगा।

इस सम्बंध में अखिल भारतीय किसान सभा के राज्य उपाध्यक्ष दुलीचंद बोरदा ने बताया कि कोटा में नयापुरा स्थित कार्यालय में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की कोटा संभागीय बैठक संयोजक फतेहचंद बागला की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें इन अध्यादेशों को वापस लेने की माँग को लेकर चल रहे देशव्यापी आन्दोलन के तहत कोटा संभाग में भी आन्दोलन तेज़ करने का फ़ैसला लिया है। दुलीचंद बोरदा ने बताया की भामाशाह मंडी में 14 सितंबर को होने वाले धरने में भामाशाह मंडी व्यापार एसोशियन व फल-सब्ज़ी व्यापार संघ तथा हम्माल व मुनीम संघों के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया है। उल्लेखनीय है कि मोदी सरकार ने देश में कृर्षि को देशी विरोधी कोरपोरेट्स/पूँजीपतियों के हाथों सुपुर्द करने के लिये ग़ैर जनतंत्रिक तरीक़े से यह अध्यादेश लाकर किसानों और कृषि व्यापार से जुड़े छोटे व्यापारी/आदतिए, हम्माल, मुनीम आदि करोड़ों भारतीयों को बर्बाद करने का काम किया है। इसके विरोध में 250 से अधिक संगठनों का साझा मंच अखिल भारतीय किसान संघर्ष समिति के बैनर पर दिल्ली में हज़ारों किसान 14 सितंबर को ससंद के सामने प्रदर्शन कर सरकार को चेतावनी देंगें।

देशभर में विभिन्न किसान संगठन इन अध्यादेशों के ख़िलाफ़ आन्दोलन कर रहे हैं। भाजपा सरकार आन्दोलन को दबाना चाहती है। हरियाणा में कल किसानों पर लाठीचार्ज किया है। हम सभी किसान संगठन हरियाणा में इन अध्यादेश के ख़िलाफ़ आन्दोलन कर रहे किसानों पर लाठीचार्ज की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। बैठक में फतेह चंद बागला, दुलीचंद बोरदा, नंदलाल धाकड, महेन्द्र नेह, लाल चंद सुमन, जितेन्द्र सिंह, चतुर्भुज पहाड़िया, राम चंद्र वर्मा, हमीद गौड़, हंसराज चौधरी आदि शामिल हुए।