जयपुर. जूते के फीते बांधने के बहाने नजदीक खड़ी लड़कियों के गंदे वीडियो बनाने वाले शातिर सिरफिरे से पूछताछ जारी है। इसमें नए तथ्य सामने आए हैं। पूछताछ में पता चला कि आरोपी ने करीब 200 से ज्यादा आपत्तिजनक वीडियो अपने मोबाइल फोन से बनाए हैं। आमेर महल में क्लिप बनाते पकड़े गए सुरेश यादव ने बताया कि वह अक्सर लड़कियों के वीडियो बनाता था। सुंदर और कम उम्र की युवतियों को टारगेट करता था। उसने आमेर महल के साथ जयपुर के हर बड़े बाजार और मॉल में युवतियों की वीडियो बनाई। आरोपी फाइनेंस का काम करता है, जो शादीशुदा है। खुद भी दो बच्चों का पिता है।

जयपुर पुलिस के मुताबिक गिरफ्त में आए सुरेश (34) का मोबाइल फोन जब्त किया है। इस मोबाइल फोन में 200 से ज्यादा आपत्तिजनक वीडियो मिले हैं। ज्यादातर वीडियो जयपुर के जलमहल, हवामहल, आमेर महल, अलबर्ट हॉल, परकोटे के नामी बाजार, मालवीय नगर में गौरव टावर और वर्ल्ड ट्रेड पार्क समेत लगभग हर बाजार में बनाए गए हैं। यहां अक्सर लड़कियां अपने फ्रेंड्स के साथ खड़ी रहती हैं। खड़े होकर खाती पीती हैं।

ऐसे में लड़कियों के बातचीत व खाने पीने में व्यस्त होते वक्त सुरेश उनके इर्द गिर्द घूमकर बैठ जाता है। अपने जूते की डोरियों को बांधने का नाटक करता है। इस बीच वह अपने मोबाइल फोन को रिकॉर्डिंग MODE में कर लड़कियों के पैरों के पास जमीन पर रख देता है। इससे उनके आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड हो जाते हैं।

पुलिस ने सुरेश के गांव पहुंचकर उसका लेपटॉप और कम्प्यूटर भी जब्त किया है। पुलिस अब ये जानकारी जुटा रही है कि सुरेश इन वीडियो का करता क्या था। इसमें पता लगाया जा रहा है कि क्या वीडियो सिर्फ मौज मस्ती के लिए बनाए या फिर वह इन वीडियो को बनाकर किसी पोर्न साइट्स से जुड़े गिरोह को बेचा।

माउंट आबू में गुजरात के लड़कों से सीखा था वीडियो बनाना
आमेर थाना पुलिस आरोपी सुरेश यादव से पूछताछ कर रही है। प्रारंभिक जानकारी में सामने आया कि सुरेश फाइनेंस का काम करता है। वह सीकर में गांव गोपालपुरा, श्रीमाधोपुर का रहने वाला है। वह शादीशुदा है। उसके दो बच्चे भी हैं। वह लॉकडाउन खुलने के बाद माउंट आबू गया था। वहां एक होटल में गुजरात के दो लड़कों के साथ कमरे में ठहरा था।

तब सुरेश ने आपसी बातचीत में उन युवकों से मोबाइल फोन से लड़कियों के पास बैठकर मोबाइल से गंदे वीडियो बनाना सीख लिया। इसके बाद वह हर सप्ताह या दो तीन दिन में सीकर से जयपुर आता। यहां पर्यटन स्थलों, लड़कियों की ज्यादा आवाजाही वाले शॉपिंग मॉल, बाजारों में घूमता। वहां कम उम्र की सुंदर और स्कर्ट पहने हुए लड़कियों के वीडियो बनाना शुरू कर दिया।

आमेर महल में उड़ती फ्रॉक के नीचे से बनाया वीडियो
निर्भया स्क्वॉड की प्रभारी एडिशनल डीसीपी सुनीता मीना ने बताया कि सोमवार को सुरेश यादव आमेर महल में घूम रहा था। वह आमेर महल में घूम रही महिलाओं का पीछा कर रहा था। वह बार-बार जूते की लैस बांधने का बहाना करके स्कर्ट पहने हुए युवती के पैरों के पास बैठ रहा था। उसका मोबाइल फोन चालू हालत में था। तब संदेह होने पर महल में ही असामाजिक तत्वों की निगरानी कर रही निर्भया स्क्वॉड की पुलिस कॉन्स्टेबल प्रेमलता की नजर सुरेश पर पड़ी।

संदेह होने पर कॉन्स्टेबल प्रेमलता एक्शन में आई। उन्होंने तत्काल युवक को पकड़कर मोबाइल फोन लिया। उसे चेक किया तो एक वीडियो नजर आया। उसमें हवा में उड़ती हुई फ्रॉक के नीचे युवती के पैरों के पास मोबाइल रखकर बनाए हुए गंदे वीडियो की क्लिपिंग मिली।

युवती को इसकी भनक भी नहीं लगी। कॉन्स्टेबल प्रेमलता ने आमेर थाने में सुरेश के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई। तब पुलिस ने सुरेश को गिरफ्तार कर लिया। मंगलवार को अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर राहुल प्रकाश व डीसीपी ऋचा तोमर ने पुलिस लाइन में निर्भया की संपर्क सभा में कॉन्स्टेबल प्रेमलता को शाबाशी दी।