तीन दिन बाद मिलेगा निर्भया को इंसाफ , कोर्ट ने ख़ारिज कर दी है सभी याचिकाएं

0
95
nirbhayaa

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। जब मौत सामने हो तो हर कोई काँप उठता है और ऐसा ही कुछ हाल है निर्भया के दोषियों का जो अपने अंतिम समय में वह सभी हथकंडे अपना रहे जिनसे वह 20 मार्च को होने वाली फांसी की सज़ा को टाल सके। बीते कुछ समय से आये दिन वे नयी याचिका दायर कर रहे है जिससे उन्हें बचाया जा सके लेकिन उनकी सारी कोशिशे नाकाम होती दिखाई दे रही है । निर्भया के दोषियों को फांसी लगाने को लेकर तीन दिन बचे हैं। तिहाड़ जेल प्रशासन ने उन्हें फांसी के तख्ते पर लटकाने की प्रक्रिया एक बार फिर से तेज कर दी है। तो वही दूसरी तरफ निर्भया के दोषियों ने इससे बचने का नया तोड़ निकाला । इसी बीच आरोपी मुकेश ने कुछ इसी तरह का दावा किया की 17 दिसंबर 2012 को वो राजस्थान से गिरफ्तार हुआ था और दिल्ली में हुई उस वारदात के दौरान वो घटनास्थल पर मौजूद ही नहीं था। ऐसे में वह इस केस में दोषी नहीं है। इससे पहले भी आरोपी मुकेश ने अपनी पहली वकील वृंदा ग्रोवर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी जिस याचिका को जस्टिस मिश्रा ने खारिज कर दिया था । ऐसी कई याचिकाओं को अदालत ख़ारिज कर चुकी है ।
फांसी रोकने की सभी कोशिशें नाकाम होने के बाद निर्भया के दोषी ICJ यानी अंतरराष्ट्रीय कोर्ट की शरण में पहुंचे । दोषियों के वकील ए पी सिंह ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय अदालत को पत्र लिखा है। पत्र में 20 मार्च को होने वाली फांसी पर रोक लगाने की मांग की गई है । साथ ही कहा गया कि निचली अदालत के सभी रिकॉर्ड अदालत अपने पास मंगाए ताकि वो अपना पक्ष अंतरराष्ट्रीय अदालत में रख सकें । पत्र नीदरलैंड के दूतावास को दिया गया था जो ICJ को भेजा गया था ।