कानपुर पुलिस हत्याकांड: मर्डरर विकास दुबे की बहू समेत 4 गिरफ्तार, वहीं वह कर सकता है दिल्ली की अदालत में सरेंडर…

0
84
विकास दुबे

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। यूपी कानपुर के चौबेपुर क्षैत्र स्थित बिकरु गांव में बीते शुक्रवार को 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोप में फरार अपराधी विकास दुबे को अभी तक पकड़ा नहीं जा सका है। हालांकि पुलिस लगातार 100 से ज्यादा टीमों के साथ दबिश दे रही है। वहीं दूसरी और विकास दुबे और उसके गैंग के द्वारा 8 पुलिस वालों की हत्या के आरोप में पुलिस ने तीन और लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। इस तरह इस कांड में अब तक 4 लोग गिरफ्तार किये गए हैं। गिरफ्तार हुए तीनो लोगों के नाम सुरेश वर्मा, क्षमा दुबे और रेखा अग्निहोत्री है।  विकास दुबे की रिश्तेदारी में आने वाली बहू क्षमा दुबे, बदमाशों का हौसला बढ़ाने वाला और पुलिस के छिपने की जानकारी देने वाला सुरेश वर्मा और घरेलू सहायिका रेखा, जो हरिशंकर अग्निहोत्री की पत्नी है। पुलिस आने की सूचना रेखा ने ही बदमाशों को दी थी।

40 थानों की पुलिस विकास की तलाश में जुटी है, लेकिन अब तक उसका कोई सुराग़ नहीं लगा पाए है। इस मामले में कई पुलिसवाले भी शुरूआत से ही संदेह के घेरे में हैं। इन पुलिस वालों पर विकास दुबे के लिए जासूसी करने का आरोप लग रहा है। ड्यूटी पर लापरवाही के आरोप में अब चौबेपुर थाने में तैनात दो सब इंस्पेक्टर, एक कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।  चौबेपुर के थाना इंचार्ज विनय तिवारी को पहले ही सस्पेंड किया जा चुका है।

मुठभेड़ के बाद गिरफ़्तार विकास के साथियों ने व उसके घरेलु नौकर ने भी इस बात की तस्दीक की है कि मुठभेड़ से ठीक पहले विकास के पास पुलिस का फोन आया था, जिसमें उसे रेड की जानकारी दी गई थी। कई पुलिसवालों से इस सिलसिले में पूछताछ हो रही है और उनके कॉल रिकॉर्ड भी खंगाले जा रहे हैं।

ज्ञात हो कि, कानपुर में 8 पुलिसकर्मयों की हत्या के आरोपी विकास दुबे की सूचना देने वाले को अब ढाई लाख का इनाम दिया जाएगा। पहले यह राशि 1 लाख रुपए घोषित की गई थी। उससे पहले विकास दुबे पर इनाम की राशि 50 हजार रुपये थी, जिसको बढ़ाकर एक लाख किया गया। दुबे के अलावा, अन्य 18 नामजद अभियुक्तों पर कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की ओर से 25,000-25,000 रुपये का इनाम घोषित किया गया है। जिसमे उसके वफादार नौकर का नाम भी शामिल है।

मिली जानकारी के अनुसार कातिल विकास दुबे दिल्ली की एक अदालत में सरेंडर कर सकता है। वही वहां दिल्ली व यूपी पुलिस पहले से ही मौजूद है, ताकि उसकी गिरफ्तारी हो सके।