दर्शकों को डराने में असफल रही विक्की कौशल की फिल्म ‘भूत’

0
193

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। करण जौहर के बैनर तले बनी दूसरी हॉरर फिल्म ‘भूत’ आज रिलीज हो गई है। ‘भूत’ फिल्म का भी  करण की पहली हॉरर फिल्म ‘घोस्ट स्टोरीज’ जैसा ही हाल हुआ है। नेटफ्लिक्स के लिए बनाई गई ‘घोस्ट स्टोरीज’ को जहां फैंस ने सरे से नकार दिया था वहीं दूसरी फिल्म ‘भूत’ भी दर्शकों को आकर्षित करने में असफल रही। ‘घोस्ट स्टोरीज’ का डायरेक्शन खुद करण जौहर ने किया था और ‘भूत’ का डायरेक्शन करण के असिस्टेंट रहे शशांक खेतान के भी असिस्टेंट भानु प्रताप सिंह ने किया है। करण जहां पहले ही ‘घोस्ट स्टोरीज’ के लिए दर्शकों से माफी मांग चुके है वहां अब लगता है कि भानु को भी कुछ ऐसा ही करना पड़ सकता है। फिल्म में विकी कौशल लीड रोल में है पर इसके बावजूद फिल्म दर्शकों को पसंद नहीं आई।

दर्शकों को डराने का पूरा सामान होने के बाद भी फिल्म अपना जादू नहीं दिखा पाई। फिल्म की कहानी एक सत्य घटना पर आधारित है जिसके अनुसार कोलंबो से गुजरात के अलंग यार्ड के लिए निकला एमवी विजडम जहाज अचानक जुहू बीच पर आ गया था। इसी घटना से प्रेरित इस फिल्म में भी ऐसे ही एक विशालकाय जहाज सी बर्ड दिखाया गया जो कोलंबो की बजाय ओमान से जुहू पहुंचा। जहाज एक दस मंजिल की इमारत जैसा बड़ा है पर यह अंदर से पूरी तरह खाली है। जहाज में कोई भी व्यक्ति नहीं है। जहाज के आने के पिछे का सच किसी को नहीं पता। जहाज के यू अचानक आ जाने के कारण लोग उसे हॉन्टेड मानने लगते है। लोगों का मानना है कि जहाज पर भूत प्रेतों का साय है।

जहाज कैसे आया इसके पिछे की जानकारी निकालने का जिम्मा विकी कौशल के किरदार पृथ्वी को दिया जाता है जो कि एक शिपिंग ऑफिसर है। पृथ्वी ईमानदार, नेक दिल और बहादुर है पर उसके अतीत में हुई एक घटना ने उसे अपराध बोध में जकड़ रखा है। पृथ्वी जब जहाज के यूं अचानक आ जाने के पिछे की वजह खोज रहा होता है तो कहानी का एक और पहलू निकल कर बाहर आता है। जिससे 15 साल पहले उस शिप में वंदना नाम की लड़की के साथ हुई एक घटना सामने आती है। फिल्म में वंदना का किरदार मेहर विज निभा रही है। पृथ्वी को उसका मकसद पूरा करने में आशुतोष राणा का किरदार प्रोफेसर जोशी उसकी मदद करता है।

फिल्म में पृथ्वी के अतीत और वर्तमान की कहानी में दर्शकों को उलझा कर ड़राने की कोशिश की गई है। लेकिन शानदार बैकग्राउंड स्कोर और सांउड के साथ भी डायरेक्टर ऐसा करने में असफल रहे। फिल्म का सारा भार विक्की के किरदार पर होने के कारण फिल्म के एक जैसे सीन बार-बार स्क्रीन पर आते है। फिल्म की राइटिंग कमजोर होने के कारण फिल्म बोझिल लगती है। फिल्म का पहला पार्ट दूसरे पार्ट के मुकाबले बेहतर है। फिल्म से जुड़े सारे राज एकबार में ही सामने आ जाते है जिससे आगे की फिल्म प्रेडिक्टेबल हो जाती है। ‘मसान’ और ‘उरी : द सर्जिकल स्ट्राइक’ में अपनी शानदार एक्टिंग का प्रदर्शन कर चुके विक्की कौशल भी ‘भूत’ में अपनी एक्टिंग से दर्शकों को एंगेज नहीं कर पाएं। वंदना विज और स्पेशल अपीयरेंस में आई भूमि पेडनेकर भी कोई जादू नहीं दिखा पाई।