अलवर|Deepika Jangir: स्थानीय पुलिस थाने में अपहरण का झूठा मामला दर्ज कराने वाले चार लोगों के खिलाफ पुलिस ने कानूनी कार्रवाई की है। थानाधिकारी विनोद सामरिया ने बताया कि 20 दिसम्बर 2021 को ओड़पुर गांव निवासी राजेश बैरवा पुत्र जयसिंह ने राजगढ़ थाने में मामला दर्ज कराया कि उसके पिताजी जयसिंह बैरवा पुत्र हरफूल बैरवा निवासी इन्दिरा कॉलोनी ओड़पुर का 18 दिसम्बर 2021 को सायं करीब साढ़े सात -आठ बजे अपहरण हो गया।

उसके पिता राजगढ़ न्यायालय से पेशी के बाद अपने घर जा रहे थे, पेशी के बाद नंगेश्वर मंदिर व के्रशर प्लांट के बीच से अपहरण हुआ है। इसकी सूचना मेरे भाई गोविन्दा को मोबाईल से सडक़ पर निकलते हुए व्यक्ति ने मोटरसाईकिल पर लिखे नम्बर पर दी। जिसकी सूचना हमने सौ नम्बर पर रात करीब दस बजे दी। इस घटना में विक्रम पुत्र कालूराम, मनोज पुत्र देवीसहाय, देवीसहाय पुत्र टूंडाराम, राजेश पुत्र देवीसहाय आदि शामिल होने का आरोप लगाया। उक्त लोग पूर्व से रंजिश रखते है तथा 2 मार्च 2021 को पूर्व में भी झगड़ा हुआ था।

तब इन लोगों ने जयसिंह को जान से मारने की धमकी दी थी तथा रात को जब हमने सौ नम्बर पर सूचना दी। उसके बाद पुलिस रात्रि गश्त पर गई। उसके पिता की जान को इन लोगों से खतरा है। पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर अनुसंधान व अपहृत व्यक्ति की तलाश शुरू की। पुलिस ने अपहृत जयसिंह को दस्तयाब किया जाकर एमजेएम राजगढ़ में धारा 164 में कथन लेखबद्ध करवाए। बुधवार को ही सायं करीब सवा छह बजे थाना में दर्ज मुकदमे का परिवादी राजेश कुमार मय अपहृत अपने पिता जयसिंह व अपने साथी दुलीचंद, खेेमचंद बैरवा निवासी ओड़पुर के साथ राजगढ़ थाने में आए।

थाने में आकर कहने लगे कि आपने हमारे मुकदमे को खराब कर दिया तथा उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नही की और अभी घर पर जा रहे है। इस पर चारों लोगों को समझाया गया। आपकी ओर से जो मुकदमा दर्ज कराया गया है उस पर नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई गई है। इस पर परिवादी पक्ष के चारों लोग उत्तेजित हो गए। इस पर झूठा मुकदमा दर्ज कराने पर राजेश कुमार बैरवा, जयसिंह, दुलीचंद, खेमराज निवासी ओड़पुर को संवैधानिक अधिकारों से अवगत कराते हुए धारा 151 सीआरपीसी में गिरफ्तार किया गया।